Aaj Hi Apne Rab Ko Mana Lo Zindagi Ka Bharosa Nahin Hai Naat Lyrics

Aaj Hi Apne Rab Ko Mana Lo Zindagi Ka Bharosa Nahin Hai Naat Lyrics

 

 

आज ही अपने रब को मना लो
ज़िंदगी का भरोसा नहीं है
नार-ए-दोज़ख़ से ख़ुद को बचा लो
ज़िंदगी का भरोसा नहीं है

चाँदनी चार दिन की है, लोगो !
ये जवानी भी फ़ानी है सुन लो
आख़िरत अपनी अच्छी बना लो
ज़िंदगी का भरोसा नहीं है

क़ब्र में जा के रोना पड़ेगा
ख़ाक पर तुम को सोना पड़ेगा
मौत से पहले ख़ुद को सँभालो
ज़िंदगी का भरोसा नहीं है

चाहिए गर नबी की शफ़ा’अत
मत करो फिर नबी की इहानत
उन की उल्फ़त दिलों में बसा लो
ज़िंदगी का भरोसा नहीं है

ना’त-ख़्वाँ:
अज़मत रज़ा भागलपुरी

 

aaj hi apne rab ko mana lo
zindagi ka bharosa nahi.n hai
naar-e-dozaKH se KHud ko bacha lo
zindagi ka bharosa nahi.n hai

chaandni chaar din ki hai, logo !
ye jawaani bhi faani hai sun lo
aaKHirat apni achchhi bana lo
zindagi ka bharosa nahi.n hai

qabr me.n jaa ke rona pa.Dega
KHaak par tum ko sona pa.Dega
maut se Pehle KHud ko sambhaalo
zindagi ka bharosa nahi.n hai

chaahiye gar nabi ki shafaa’at
mat karo phir nabi ki ihaanat
un ki ulfat dilo.n me.n basa lo
zindagi ka bharosa nahi.n hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *