Aa’la Hazrat Hamaari Jaan Hai Naat Lyrics

Aa’la Hazrat Hamaari Jaan Hai Naat Lyrics

 

 

‘इश्क़-ओ-मोहब्बत, ‘इल्म-ओ-हिकमत
आ’ला हज़रत, आ’ला हज़रत

आ’ला हज़रत हमारी जान है
आ’ला हज़रत हमारी जान है

मेरा अहमद रज़ा ज़ीशान है
उन के मस्लक पे जाँ क़ुर्बान है

आ’ला हज़रत हमारी जान है
आ’ला हज़रत हमारी जान है

उन के दीवान का एक एक हर्फ़
‘इश्क़-ए-अहमद का एक ‘उनवान है

‘इश्क़-ओ-मोहब्बत, ‘इल्म-ओ-हिकमत
आ’ला हज़रत, आ’ला हज़रत

ज़िक्र उन का कसौटी बन गया
सुन्नियत की बड़ी पहचान है

आ’ला हज़रत हमारी जान है
आ’ला हज़रत हमारी जान है

उन के मस्लक पे रख क़ाइम मुझे
तुझ से मेरी दु’आ, रहमान ! है

आ’ला हज़रत हमारी जान है
आ’ला हज़रत हमारी जान है

शा’इरी देखिए तो यूँ लगे
जारी हस्सान का फ़ैज़ान है

आ’ला हज़रत हमारी जान है
आ’ला हज़रत हमारी जान है

उस ने जो भी लिखा ऐसा लिखा
‘अक़्ल-ए-अहल-ए-क़लम हैरान है

आ’ला हज़रत हमारी जान है
आ’ला हज़रत हमारी जान है

मैं ‘उबैद-ए-रज़ा हूँ जान लो
आ’ला हज़रत मेरी पहचान है

आ’ला हज़रत हमारी जान है
आ’ला हज़रत हमारी जान है

‘इश्क़-ओ-मोहब्बत, ‘इल्म-ओ-हिकमत
आ’ला हज़रत, आ’ला हज़रत

शायर:
उबैद रज़ा (ओवैस रज़ा क़ादरी)

ना’त-ख़्वाँ:
मुहम्मद ओवैस रज़ा क़ादरी और
फ़ुर्क़ान क़ादरी

 

‘ishq-o-mohabbat, ‘ilm-o-hikmat
aa’la hazrat, aa’la hazrat

aa’la hazrat hamaari jaan hai
aa’la hazrat hamaari jaan hai

mera ahmad raza zeeshaan hai
un ke maslak pe jaa.n qurbaan hai

aa’la hazrat hamaari jaan hai
aa’la hazrat hamaari jaan hai

un ke deewaan ka ek ek harf
‘ishq-e-ahmad ka ek ‘unwaan hai

‘ishq-o-mohabbat, ‘ilm-o-hikmat
aa’la hazrat, aa’la hazrat

zikr un ka kasauTi ban gaya
sunniyat ki ba.Di pahchaan hai

aa’la hazrat hamaari jaan hai
aa’la hazrat hamaari jaan hai

un ke maslak pe rakh qaaim mujhe
tujh se meri du’aa, rahmaan ! hai

aa’la hazrat hamaari jaan hai
aa’la hazrat hamaari jaan hai

shaa’iri dekhiye to yu.n lage
jaari hassaan ka faizaan hai

aa’la hazrat hamaari jaan hai
aa’la hazrat hamaari jaan hai

us ne jo bhi likha aisa likha
‘aql-e-ahl-e-qalam hairaan hai

aa’la hazrat hamaari jaan hai
aa’la hazrat hamaari jaan hai

mai.n ‘Ubaid-e-Raza hu.n jaan lo
aa’la hazrat meri pahchaan hai

aa’la hazrat hamaari jaan hai
aa’la hazrat hamaari jaan hai

‘ishq-o-mohabbat, ‘ilm-o-hikmat
aa’la hazrat, aa’la hazrat

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *