Aane Waalo Ye To Bataao Shehr-e-Madina Kaisa Hai Naat Lyrics

Aane Waalo Ye To Bataao Shehr-e-Madina Kaisa Hai Naat Lyrics

 

 

 

Aane Waalo Ye To Bataao Shehr-e-Madina Kaisa Hai | Dekh Ke Jis Ko Jee Nahin Bharta Shehr-e-Madina Aisa Hai

 

 

आने वालो ! ये तो बताओ, शहर-ए-मदीना कैसा है
सर उन के क़दमों में रख कर, झुक कर जीना कैसा है

देख के जिस को जी नहीं भरता, शहर-ए-मदीना ऐसा है
आँखों को जो ठंडक बख़्शे, गुंबद-ए-ख़ज़रा ऐसा है

आने वालो ! ये तो बताओ, शहर-ए-मदीना कैसा है

गुंबद-ए-ख़ज़रा के साए में बैठ के तुम तो आए हो
उस साए में रब के आगे सज्दा करना कैसा है

आने वालो ! ये तो बताओ, शहर-ए-मदीना कैसा है

मैं भी चूम के आज आया हूँ उन महकती गलियों को
जो कुछ देखा उन गलियों में, कहीं न देखा ऐसा है

देख के जिस को जी नहीं भरता, शहर-ए-मदीना ऐसा है

दिल, आँखें और रूह तुम्हारी लगती है सैराब मुझे
दर पे उन के बैठ के आब-ए-ज़मज़म पीना कैसा है

आने वालो ! ये तो बताओ, शहर-ए-मदीना कैसा है

हम मेहमान बने थे उन के, ‘अर्श पे जो मेहमान हुए
क्यूँ न क़िस्मत पर हो नाज़ाँ, जिन का आक़ा ऐसा है

देख के जिस को जी नहीं भरता, शहर-ए-मदीना ऐसा है

दीवानो ! आँखों से तुम्हारी इतना पूछ तो लेने दो
वक़्त-ए-दु’आ रौज़े पे उन के आँसू बहाना कैसा है

आने वालो ! ये तो बताओ, शहर-ए-मदीना कैसा है

मिम्बर-ए-पाक-ए-रसूल भी देखा, देखा ख़ास मुसल्ला भी
हरम शरीफ़ का हर मंज़र ही नज़र में जचता ऐसा है

देख के जिस को जी नहीं भरता, शहर-ए-मदीना ऐसा है

वक़्त-ए-रुख़्सत दिल को अपने छोड़ वहाँ तुम आए हो
ये बतलाओ, इशरत ! उन के घर से बिछड़ना कैसा है

आने वालो ! ये तो बताओ, शहर-ए-मदीना कैसा है

वापस आएँ दिल नहीं करता छोड़ के उन की चौखट को
जान भी दे दें उन के दर पर, दिल में आता ऐसा है

देख के जिस को जी नहीं भरता, शहर-ए-मदीना ऐसा है

शायर:
इशरत गोधरवी

ना’त-ख़्वाँ:
प्रोफ़ेसर अब्दुर्रउफ़ रूफ़ी
अल्लामा हाफ़िज़ बिलाल क़ादरी

 

aane waalo ! ye to bataao, shehr-e-madina kaisa hai
sar un ke qadmo.n rakh kar, jhuk kar jeena kaisa hai

dekh ke jis ko jee nahi.n bharta, shehr-e-madina aisa hai
aankho.n ko jo ThanDak baKHshe, gumbad-e-KHazra aisa hai

aane waalo ! ye to bataao, shehr-e-madina kaisa hai

gumbad-e-KHazra ke saae me.n baiTh ke tum to aae ho
us saae me.n rab ke aage sajda karna kaisa hai

aane waalo ! ye to bataao, shehr-e-madina kaisa hai

mai.n bhi choom ke aaj aaya hu.n un mahakti aliyo.n ko
jo kuchh dekha un galiyo.n me.n, kahi.n na dekha aisa hai

dekh ke jis ko jee nahi.n bharta, shehr-e-madina aisa hai

dil, aankhe.n aur rooh tumhaari lagti hai sairaab mujhe
dar pe un ke baiTh ke aab-e-zamzam peena kaisa hai

aane waalo ! ye to bataao, shehr-e-madina kaisa hai

ham mehmaan bane the un ke, ‘arsh pe jo mehmaan hue
kyu.n na qismat par ho naazaa.n, jin ka aaqa aisa hai

dekh ke jis ko jee nahi.n bharta, shehr-e-madina aisa hai

deewaano ! aankho.n se tumhaari itna poochh to lene do
waqt-e-du’aa rauze pe un ke aansu bahaana kaisa hai

aane waalo ! ye to bataao, shehr-e-madina kaisa hai

mimbar-e-paak-e-rasool bhi dekha, dekha KHaas musalla bhi
haram shareef ka har manzar hi nazar me.n jachta aisa hai

dekh ke jis ko jee nahi.n bharta, shehr-e-madina aisa hai

waqt-e-ruKHsat dil ko apne chho.D wahaa.n tum aae ho
ye batlaao, Ishrat ! un ke ghar se bichha.Dna kaisa hai

aane waalo ! ye to bataao, shehr-e-madina kaisa hai

waapas aae.n dil nahi.n karta chho.D ke un ki chaukhat ko
jaan bhi de de.n un ke dar par, dil me.n aata aisa hai

dekh ke jis ko jee nahi.n bharta, shehr-e-madina aisa hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *