Aankhon Ka Taara Naam-e-Muhammad Dil Ka Ujaala Naam-e-Muhammad Naat Lyrics

Aankhon Ka Taara Naam-e-Muhammad Dil Ka Ujaala Naam-e-Muhammad Naat Lyrics

 

 

आँखों का तारा नाम-ए-मुहम्मद
दिल का उजाला नाम-ए-मुहम्मद

अल्लाहु अकबर ! रब्बुल-‘उला ने
हर शय पे लिखा नाम-ए-मुहम्मद

हैं यूँ तो कसरत से नाम लेकिन
सब से है प्यारा नाम-ए-मुहम्मद

दौलत जो चाहो दोनों जहाँ की
कर लो वज़ीफ़ा नाम-ए-मुहम्मद

शैदा न क्यूँ हों इस पर मुसलमाँ
रब को है प्यारा नाम-ए-मुहम्मद

अल्लाह वाला दम में बना दे
अल्लाह वाला नाम-ए-मुहम्मद

सल्ले ‘अला का सेहरा सजा कर
दूल्हा बनाया नाम-ए-मुहम्मद

नूह-ओ-ख़लील-ओ-मूसा-ओ-‘ईसा
सब का है आक़ा नाम-ए-मुहम्मद

पाईं मुरादें दोनों जहाँ में
जिस ने पुकारा नाम-ए-मुहम्मद

रखो लहद में जिस दम, ‘अज़ीज़ो !
मुझ को सुनाना नाम-ए-मुहम्मद

रोज़-ए-क़यामत मीज़ान-ओ-पुल पर
देगा सहारा नाम-ए-मुहम्मद

पूछेगा मौला, लाया है क्या क्या ?
मैं ये कहूँगा, नाम-ए-मुहम्मद

बेड़ा तबाही में आ गया है
दे दे सहारा नाम-ए-मुहम्मद

अपने रज़ा के क़ुर्बान जाऊँ
जिस ने सिखाया नाम-ए-मुहम्मद

आँखों में आ कर, दिल में समा कर
रंगत रचा जा नाम-ए-मुहम्मद

अपने जमील-ए-रज़वी के दिल में
आ जा, समा जा नाम-ए-मुहम्मद

शायर:
मौलाना जमीलुर्रहमान क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी
मुहम्मद हस्सान रज़ा क़ादरी
मुहम्मद हंज़ला क़ादरी और मुहम्मद हमज़ा क़ादरी

 

aankho.n ka taara naam-e-muhammad
dil ka ujaala naam-e-muhammad

allahu akbar ! rabbul-‘ula ne
har shai pe likha naam-e-muhammad

hai.n yu.n to kasrat se naam lekin
sab se hai pyaara naam-e-muhammad

daulat jo chaaho dono.n jahaa.n ki
kar lo wazeefa naam-e-muhammad

shaida na kyu.n ho.n is par musalmaa.n
rab ko hai pyaara naam-e-muhammad

allah waala dam me.n bana de
allah waala naam-e-muhammad

salle ‘ala ka sehra saja kar
dulha banaaya naam-e-muhammad

nooh-o-KHaleel-o-moosa-o-‘iisa
sab ka hai aaqa naam-e-muhammad

paaee.n muraade.n dono.n jahaa.n me.n
jis ne pukaara naam-e-muhammad

rakho lahad me.n jis dam, ‘azeezo !
mujh ko sunaana naam-e-muhammad

roz-e-qayaamat meezaan-o-pul par
dega sahaara naam-e-muhammad

poochhega maula, laaya hai kya kya?
mai.n ye kahunga, naam-e-muhammad

be.Da tabaahi me.n aa gaya hai
de de sahaara naam-e-muhammad

aankho.n me.n aa kar, dil me.n sama kar
rangat racha jaa naam-e-muhammad

apne Jameel-e-Razvi ke dil me.n
aa jaa, sama jaa naam-e-muhammad

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *