Aankhon Mein Bas Gaya Hai Madina Huzoor Ka Naat Lyrics

Aankhon Mein Bas Gaya Hai Madina Huzoor Ka Naat Lyrics

 

 

आँखों में बस गया है मदीना हुज़ूर का
बेकस का आसरा है मदीना हुज़ूर का

फिर जा रहे हैं अहल-ए-मोहब्बत के क़ाफ़िले
फिर याद आ रहा है मदीना हुज़ूर का

तस्कीन-ए-जाँ है, राहत-ए-दिल, वज्ह-ए-इंबिसात
हर दर्द की दवा है मदीना हुज़ूर का

नबियों में जैसे अफ़ज़ल-ओ-आ’ला हैं मुस्तफ़ा
शहरों में बादशा है मदीना हुज़ूर का

है रंग-ए-नूर जिस ने दिया दो जहान को
वो नूर का दिया है मदीना हुज़ूर का

जब से क़दम पड़े हैं रिसालत-मआब के
जन्नत बना हुवा है मदीना हुज़ूर का

हर ज़र्रा ज़र्रा अपनी जगह माहताब है
क्या जगमगा रहा है मदीना हुज़ूर का

क़ुदसी भी चूमते हैं अदब से यहाँ की ख़ाक
क़िस्मत पे झूमता है मदीना हुज़ूर का

हो नाज़ क्यूँ न उस को, नियाज़ी ! नसीब पर
जिस को भी मिल गया है मदीना हुज़ूर का

शायर:
अब्दुल सत्तार नियाज़ी

ना’त-ख़्वाँ:
रईस अनीस साबरी
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

aankho.n me.n bas gaya hai madina huzoor ka
bekas ka aasra hai madina huzoor ka

phir jaa rahe hai.n ahl-e-mohabbat ke qaafile
phir yaad aa raha hai madina huzoor ka

taskeen-e-jaa.n hai, raahat-e-dil, waj.h-e-imbisaat
har dard ki dawa hai madina huzoor ka

nabiyo.n me.n jaise afzal-o-aa’la hai.n mustafa
shahro.n me.n baadsha hai madina huzoor ka

hai rang-e-noor jis ne diya do jahaan ko
wo noor ka diya hai madina huzoor ka

jab se qadam pa.De hai.n risaalat-m.aab ke
jannnat bana huwa hai madina huzoor ka

har zarra zarra apni jagah maahtaab hai
qismat pe jhoomta hai madina huzoor ka

qudsi bhi choomte hai.n adab se yahaa.n ki KHaak
qismat pe jhoomta hai madina huzoor ka

ho naaz kyu.n na us ko, Niyazi ! naseeb par
jis ko bhi mil gaya hai madina huzoor ka

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *