Aap Shamsudduha Aap Badrudduja Naam Aisa Suhana Kisi Ka Nahin Naat Lyrics

Aap Shamsudduha Aap Badrudduja Naam Aisa Suhana Kisi Ka Nahin Naat Lyrics

 

आप शम्सुद्दुहा, आप बदरुद्दुजा
नाम ऐसा सुहाना किसी का नहीं
का’बे की छाँव है, नूर का गाँव है
ऐसा प्यारा घराना किसी का नहीं

जब कि आदम न थे, उन का पुतला न था
और फ़रिश्तों ने भी ऐसा सोचा न था
राज़-ए-हुस्न-ए-नबी पर था पर्दा पड़ा
या’नी अल्लाह ने कुछ बताया न था
‘अर्श पर आप का नूर था जल्वा-गर
नाम इतना पुराना किसी का नहीं

ज़िक्र-ए-‘ईसा भी है, ज़िक्र-ए-मूसा भी है
नूह भी आए हैं, शीश भी आए हैं
और नबियों के भी तज़्किरे हैं यहाँ
परचम-ए-नूर इन के भी लहराए हैं
देखिये मर्तबा, मुस्तफ़ा के सिवा
‘अर्श पर आना-जाना किसी का नहीं

रेत की आग पर तन जलाया गया
फिर भी छूटा नहीं दामन-ए-मुस्तफ़ा
कोई शिकवा-शिकायत न कोई गिला
ग़म मिला जो भी दुनिया में वो सह लिया
जैसे नाम-ए-बिलाल और ‘इश्क़-ए-नबी
ऐसा कोई दीवाना किसी का नहीं

नूर ही नूर है मय-कदा आप का
सब से मशहूर है मय-कदा आप का
रौशनी से भरे हैं पियाले सभी
जल्वा-ए-तूर है मय-कदा आप का
आब-ए-ज़मज़म भी है, जाम-ए-कौसर भी है
ऐसा पीना पिलाना किसी का नहीं

ना’त-ख़्वाँ:
ज़ैन-उल-आबिदीन कानपुरी

 

aap shamsudduha, aap badrudduja
naam aisa suhaana kisi ka nahi.n
kaa’be ki chhaanw hai, noor ka gaanw hai
aisa pyaara gharaana kisi ka nahi.n

jab ki aadam na the, un ka putla na tha
aur farishto.n ne bhi aisa socha na tha
raaz-e-husn-e-nabi par tha parda pa.Da
yaa’ni allah ne kuchh bataaya na tha
‘arsh par aap ka noor tha jalwa-gar
naam itna puraana kisi ka nahi.n

zikr-e-‘isa bhi hai, zikr-e-moosa bhi hai
nooh bhi aae hai.n, sheesh bhi aae hai.n
aur nabiyo.n ke bhi tazkire hai.n yahaa.n
parcham-e-noor in ke bhi lehraae hai.n
dekhiye martaba, mustafa ke siwa
‘arsh par aana-jaana kisi ka nahi.n

ret ki aag par tan jalaaya gaya
phir bhi chhooTa nahi.n daaman-e-mustafa
koi shikwa-shikaayat na koi gila
Gam mila jo bhi duniya me.n wo seh liya
jaise naam-e-bilaal aur ‘ishq-e-nabi
aisa koi deewaana kisi ka nahi.n

noor hi noor hai mai-kada aap ka
sab se mash.hoor hai mai-kada aap ka
raushni se bhare hai.n piyaale sabhi
jalwa-e-toor hai mai-kada aap ka
aab-e-zamzam bhi hai, jaam-e-kausar bhi hai
aisa peena pilaana kisi ka nahi.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *