Aariz-e-Shams-o-Qamar Se Bhi Hain Anwar Ediyaan Naat Lyrics

Aariz-e-Shams-o-Qamar Se Bhi Hain Anwar Ediyaan Naat Lyrics

 

‘आरिज़-ए-शम्स-ओ-क़मर से भी हैं अनवर एड़ियाँ
‘अर्श की आँखों के तारे हैं वो ख़ुश-तर एड़ियाँ

जा-ब-जा परतव-फ़िगन हैं आसमाँ पर एड़ियाँ
दिन को हैं ख़ुर्शीद, शब को माह-ओ-अख़्तर एड़ियाँ

नज्म-ए-गर्दूं तो नज़र आते हैं छोटे और वो पाँव
‘अर्श पर फिर क्यूँ न हों महसूस लाग़र एड़ियाँ

दब के ज़ेर-ए-पा न गुंजाइश समाने को रही
बन गया जल्वा कफ़-ए-पा का उभर कर एड़ियाँ

उन का मँगता पाँव से ठुकरा दे वो दुनिया का ताज
जिस की ख़ातिर मर गए मुन’अम रगड़ कर एड़ियाँ

दो क़मर, दो पंजा-ए-ख़ुर, दो सितारे, दस हिलाल
उन के तल्वे, पंजे, नाख़ुन, पा-ए-अतहर एड़ियाँ

हाए ! उस पत्थर से, उस सीने की क़िस्मत फोड़िए
बे-तकल्लुफ़ जिस के दिल में यूँ करें घर एड़ियाँ

ताज-ए-रूहुल-क़ुद्स के मोती जिसे सज्दा करें
रखती हैं, वल्लाह ! वो पाकीज़ा गौहर एड़ियाँ

एक ठोकर में उहुद का ज़लज़ला जाता रहा
रखती हैं कितना वक़ार, अल्लाहु अक्बर ! एड़ियाँ

चर्ख़ पर चढ़ते ही चाँदी में सियाही आ गई
कर चुकी हैं बद्र को टकसाल बाहर एड़ियाँ

ए रज़ा ! तूफ़ान-ए-महशर के तलातुम से न डर
शाद हो ! हैं कश्ती-ए-उम्मत को लंगर एड़ियाँ

शायर:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान

नात-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

‘aariz-e-shams-o-qamar se bhi hain anwar e.Diyaa.n
‘arsh ki aankho.n ke taare hai.n wo KHush-tar e.Diyaa.n

ja-ba-ja partaw-figan hai.n aasmaa.n par e.Diyaa.n
din ko hai.n KHurshid, shab ko maah-o-aKHtar e.Diyaa.n

najm-e-gardoo.n to nazar aate hai.n chhoTe aur wo paanw
‘arsh par phir kyu.n na ho.n mahsoos laaGar e.Diyaa.n

dab ke zer-e-paa na gunjaaish samaane ko rahi
ban gaya jalwa kaf-e-paa ka ubhar kar e.Diyaa.n

un ka mangta paanw se Thukra de wo duniya ka taaj
jis ki KHaatir mar gae mun’am raga.D kar e.Diyaa.n

do qamar, do panja-e-KHur, do sitaare, das hilaal
un ke talwe, panje, naaKHun, paa-e-at.har e.Diyaa.n

haae ! us patthar se, un seene ki qismat pho.Diye
be-takalluf jis ke dil me.n yu.n kare.n ghar e.Diyaa.n

taaj-e-roohul-quds ke moti jise sajda kare.n
rakhti hai.n, wallah ! wo paakeeza gauhar e.Diyaa.n

ek Thokar me.n uhud ka zalzala jaata raha
rakhti hai.n kitna waqaar, allahu akbar ! e.Diyaa.n

charKH par cha.Dhte hi chaandi me.n siyaahi aa gai
kar chuki hai.n badr ko Taksaal baahar e.Diyaa.n

ai Raza ! toofaan-e-mahshar ke talaatum se na Dar
shaad ho ! hai.n kashti-e-ummat ko langar e.Diyaa.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *