Aashiqo Aao Dar-e-Ghaus Ka Jalwa Dekho Naat Lyrics

Aashiqo Aao Dar-e-Ghaus Ka Jalwa Dekho Naat Lyrics

 

शाह-ए-जीलाँ ! शाह-ए-जीलाँ !
शाह-ए-जीलाँ ! शाह-ए-जीलाँ !

‘आशिक़ो ! आओ, दर-ए-ग़ौस का जल्वा देखो
अपनी दुनिया ही में जन्नत का नज़ारा देखो

‘आशिक़ो ! आओ, दर-ए-ग़ौस का जल्वा देखो

सारे वलियों के हैं सरदार जो ग़ौस-ए-आ’ज़म
है ये बग़दाद शहर उन का मदीना देखो

‘आशिक़ो ! आओ, दर-ए-ग़ौस का जल्वा देखो

ख़ाली जाता ही नहीं कोई सवाली उन का
पंजतन-ए-पाक का बटता है ख़ज़ाना देखो

‘आशिक़ो ! आओ, दर-ए-ग़ौस का जल्वा देखो

जिन को कहता है जहाँ हसनी-हुसैनी सय्यिद
शान से सोता है वो लाल ‘अली का देखो

‘आशिक़ो ! आओ, दर-ए-ग़ौस का जल्वा देखो

सर झुकाते हैं यहाँ आ के वली ‘आलम के
कितना ऊँचा है दर-ए-ग़ौस का रुत्बा देखो

‘आशिक़ो ! आओ, दर-ए-ग़ौस का जल्वा देखो

काश, ऐ ‘अक्स ! कोई आ के कहे यूँ मुझ से
आओ, अब तुम भी बड़े पीर का रौज़ा देखो

‘आशिक़ो ! आओ, दर-ए-ग़ौस का जल्वा देखो

ऐ पीरों के पीर ! ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
ऐ पीरों के पीर ! ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !

शायर:
अदनान अक्स

ना’त-ख़्वाँ:
राओ अली हसनैन

 

shaah-e-jeelaa.n ! shaah-e-jeelaa.n !
shaah-e-jeelaa.n ! shaah-e-jeelaa.n !

‘aashiqo ! aao, dar-e-Gaus ka jalwa dekho
apni duniya hi me.n jannat ka nazaara dekho

‘aashiqo ! aao, dar-e-Gaus ka jalwa dekho

saare waliyo.n ke hai.n sardaar jo Gaus-e-aa’zam
hai ye baGdaad shahar un ka madina dekho

‘aashiqo ! aao, dar-e-Gaus ka jalwa dekho

KHaali jaata hi nahi.n koi sawaali un ka
panjtan-e-paak ka baT.ta hai KHazaana dekho

‘aashiqo ! aao, dar-e-Gaus ka jalwa dekho

jin ko kehta hai jahaa.n hasani-husaini sayyid
shaan se sota hai wo laal ‘ali ka dekho

‘aashiqo ! aao, dar-e-Gaus ka jalwa dekho

sar jhukaate hai.n yahaa.n aa ke wali ‘aalam ke
kitna uncha hai dar-e-Gaus ka rutba dekho

‘aashiqo ! aao, dar-e-Gaus ka jalwa dekho

kaash, ai ‘Aks ! koi aa ke kahe yu.n mujh se
aao, ab tum bhi ba.De peer ka rauza dekho

‘aashiqo ! aao, dar-e-Gaus ka jalwa dekho

ai peero.n ke peer ! Gaus-e-aa’zam dast-geer !
ai peero.n ke peer ! Gaus-e-aa’zam dast-geer !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *