Ab Hosh Kahaan Baaqi Main Tha Kabhi Farzaana Naat Lyrics

Ab Hosh Kahaan Baaqi Main Tha Kabhi Farzaana Naat Lyrics

 

 

Ab Hosh Kahaan Baaqi, Main Tha Kabhi Farzaana | Tazmeen of Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijaabaana
अब होश कहाँ बाक़ी, मैं था कभी फ़रज़ाना
था दिल में कभी का’बा, अब है ये दर-ए-जाना
है नर्गिसी-आँखों में वो रंग-ए-तिलिस्माना
बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना
आ दिल में तुझे रख लूँ, ए जल्वा-ए-जानाना !

बीमार-ए-वफ़ा पर हो इक नज़र-ए-मुहिब्बाना
जो है अभी ग़म-ख़ाना, बन जाए शिफ़ा-ख़ाना
हो मुझ पे दम-ए-आख़िर, अंदाज़-ए-मसीहाना
इतना तो करम करना, ए नर्गिस-ए-मस्ताना !
जब जान लबों पर हो, तुम सामने आ जाना

ज़ख़्मों को हवा दे कर ये दर्द बढ़ाया है
आँखों से मोहब्बत का क्या जाम पिलाया है
तुमने ही मोहब्बत का एहसास दिलाया है
दुनिया में मुझे तुम ने जब अपना बनाया है
महशर में भी कह देना, ये है मेरा दीवाना

क्यूँ रह के पस-ए-पर्दा आवाज़ सुनाई थी
ख़्वाबीदा सी आँखों की क्यूँ नींद उड़ाई थी
मैं कैसे कहूँ, जाना ! जो आग लगाई थी
क्यूँ आँख मिलाई थी, क्यूँ आग लगाई थी
अब रुख़ को छुपा बैठे कर के मुझे दीवाना

नज़रों से जो बटती है, क्या तुम ने कभी पी है ?
मुझ को जो पिलाओगे, बतलाओ कहाँ की है ?
सुन लो, ए जहाँ वालो ! ‘आशिक़ ने सदा दी है
पीने को तो पी लूँगा, बस शर्त ज़रा सी है
अजमेर का साक़ी हो, बग़दाद का मय-ख़ाना

जो दहर में जल्वे हैं, जल्वे हैं इसी दर के
झोली में मेरी, बेशक ! टुकड़े हैं इसी दर के
दुनिया-ए-मोहब्बत में किस्से हैं इसी दर के
बेदम ! तेरी क़िस्मत में चक्कर हैं इसी दर के
छूटा है न छूटेगा संग-ए-दर-ए-जानाना

कलाम:
बेदम शाह वारसी

तज़मीन:
सैफ़ रज़ा कानपुरी

ना’त-ख़्वाँ:
सैफ़ रज़ा कानपुरी

 

ab hosh kahaa.n baaqi, mai.n thaa kabhi farzaana
tha dil me.n kabhi kaa’ba, ab hai ye dar-e-jaana
hai nargisi-aankho.n me.n wo rang-e-tilismaana
be-KHud kiye dete hai.n andaaz-e-hijaabaana
aa dil me.n tujhe rakh loo.n, ai jalwa-e-jaanaana

beemaar-e-wafa par ho ik nazar-e-muhibbaana
jo hai abhi Gam-KHaana, ban jaae shifa-KHaana
ho mujh pe dam-e-aaKHir, andaaz-e-maseehaana
itna to karam karna, ai nargis-e-mastaana !
jab jaan labo.n par ho, tum saamne aa jaana

zaKHmo.n ko hawa de kar ye dard ba.Dhaaya hai
aankho.n se mohabbat ka kya jaam pilaaya hai
tumne hi mohabbat ka ehsaas dilaaya hai
duniya me.n mujhe tum ne jab apna banaaya hai
mahshar me.n bhi kah dena, ye hai mera deewaana

kyu.n rah ke pas-e-parda aawaaz sunaai thi
KHwaabeeda si aankho.n ki kyu.n neend u.Daai thi
mai.n kaise kahu.n, jaana ! jo aag lagaai thi
kyu.n aankh milaai thi, kyu.n aag lagaai thi
ab ruKH ko chhupa baiThe kar ke mujhe deewaana

nazro.n se jo baT.ti hai, kya tum ne kabhi pee hai ?
mujh ko jo pilaaoge, baTlaao kahaa.n kee hai ?
sun lo, ai jahaa.n waalo ! ‘aashiq ne sada dee hai
peene ko to pee loonga, bas shart zara see hai
ajmer ka saaqi ho, baGdaad ka mai-KHaana

jo dahr me.n jalwe hai.n, jalwe hai.n isi dar ke
jholi me.n meri, beshak ! Tuk.de hai.n isi dar ke
duniya-e-mohabbat me.n kisse hai.n isi dar ke
Bedam ! teri qismat me.n chakkar hai.n isi dar ke
chhooTa hai na chhooTega sang-e-dar-e-jaanaana

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *