Afsos Bahut Door Hun Gulzar-e-Nabi Se Naat Lyrics

Afsos Bahut Door Hun Gulzar-e-Nabi Se Naat Lyrics

 

 

अफ़सोस ! बहुत दूर हूँ गुलज़ार-ए-नबी से
काश ! आए बुलावा मुझे दरबार-ए-नबी से

उल्फ़त है मुझे गेसू-ए-ख़मदार-ए-नबी से
अब्रू-ओ-पलक, आँख से, रुख़्सार-ए-नबी से

बूसैरी ! मुबारक हो तुम्हें बुर्द-ए-यमानी
सौग़ात मिली ख़ूब है दरबार-ए-नबी से

बीमार ! न मायूस हो, तू हुस्न-ए-यक़ीं रख
दम जा के करा ले किसी बीमार-ए-नबी से

ए ज़ाइर-ए-तयबा ! ये दु’आ कर मेरे हक़ में
मुझ को भी बुलावा मिले दरबार-ए-नबी से

दीवानों के आँसू नहीं थमते दम-ए-रुख़्सत
जब सू-ए-वतन जाते हैं दरबार-ए-नबी से

जल्वों से, ख़ुदाया ! मेरा सीना हो मदीना
आँखें भी हों ठंडी मेरी दीदार-ए-नबी से

मस्ताना मदीने में, ख़ुदा ! ऐसा बना दे
टकरा के मैं दम तोड़ दूँ दीवार-ए-नबी से

जब क़ब्र में आएँगे तो क़दमों में गिरूँगा
ख़ूब आँखें मलूँगा मैं तो पैज़ार-ए-नबी से

‘अत्तार है ईमाँ की हिफ़ाज़त का सुवाली
ख़ाली नहीं जाएगा ये दरबार-ए-नबी से

शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
आरिफ़ अत्तारी
हाजी अमीन अत्तारी

 

afsos ! bahut door hu.n darbaar-e-nabi se
kaash ! aae bulaawa mujhe darbaar-e-nabi se

ulfat hai mujhe gesu-e-KHamdaar-e-nabi se
abru-o-palak, aankh se, ruKHsaar-e-nabi se

busairi ! mubaarak ho tumhe.n burd-e-yamaani
sauGaat mili KHoob hai darbaar-e-nabi se

beemaar ! na maayoos ho, tu husn-e-yaqee.n rakh
dam jaa ke kara le kisi beemaar-e-nabi se

ai zaair-e-tayba ! ye du’aa kar mere haq me.n
mujh ko bhi bulaawa mile darbaar-e-nabi se

deewaano.n ke aansoo nahi.n thamte dam-e-ruKHsat
jab soo-e-watan jaate hai.n darbaar-e-nabi se

jalwo.n se, KHudaya ! mera seena ho madina
aankhe.n bhi ho.n ThanDi meri deedaar-e-nabi se

mastaana madine me.n, KHuda ! aisa bana de
Takra ke mai.n dam to.D du.n deewaar-e-nabi se

jab qabr me.n aaenge to qadmo.n me.n girunga
KHoob aankhe.n maloonga mai.n to paizaar-e-nabi se

‘Attar hai imaa.n ki hifaazat ka suwaali
KHaali nahi.n jaaega ye darbaar-e-nabi se

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *