Ahmad Raza Ki Kya Baat Hai Mere Raza Ki Kya Baat Hai Naat Lyrics

Ahmad Raza Ki Kya Baat Hai Mere Raza Ki Kya Baat Hai Naat Lyrics

 

रज़ा रज़ा रज़ा रज़ा ! अहमद रज़ा !
रज़ा रज़ा रज़ा रज़ा ! अहमद रज़ा !

मस्लक-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
नग़्मा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
जज़्बा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
जल्वा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

हर फ़न में तुझ को कामिल ही पाया
फ़हम-ए-रज़ा की क्या बात है

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

तेरे क़लम पर क़ुर्बान जाऊँ
तेरे क़लम की क्या बात है

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

सब सुन्नियों पर एहसान तेरा
तेरे करम की क्या बात है

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

मस्लक-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
नग़्मा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
जज़्बा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
जल्वा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !

‘उलमा ने ठहराया तुझ को मुजद्दिद
‘इल्म-ओ-‘अमल की क्या बात है

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

सानी ज़माने में तेरा न पाया
इन ‘अज़मतों की क्या बात है

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

ना’तों ने तेरी रंग जमाया
तेरे सुख़न की क्या बात है

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

वो शा’इरी तेरी, अल्लाहु अकबर !
‘इश्क़-ए-नबी की क्या बात है

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

मस्लक-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
नग़्मा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
जज़्बा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
जल्वा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !

जड़ काट दी सारे फ़ित्नों की तूने
किल्क-ए-रज़ा की क्या बात है

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

तू भी सगान-ए-दर में है, फ़ानी !
इस सिलसिले की क्या बात है

अहमद रज़ा की क्या बात है
मेरे रज़ा की क्या बात है

मस्लक-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
नग़्मा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
जज़्बा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !
जल्वा-ए-रज़ा ! मरहबा मरहबा !

शायर:
अश्फ़ाक़ अत्तारी मदनी

ना’त-ख़्वाँ:
अश्फ़ाक़ अत्तारी मदनी

 

raza raza raza raza ! ahmad raza !
raza raza raza raza ! ahmad raza !

maslak-e-raza ! marhaba marhaba !
naGma-e-raza ! marhaba marhaba !
jazba-e-raza ! marhaba marhaba !
jalwa-e-raza ! marhaba marhaba !

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

har fan me.n tujh ko kaamil hi paaya
fahm-e-raza ki kya baat hai

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

tere qalam par qurbaan jaaun
tere qalam ki kya baat hai

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

sab sunniyo.n par ehsaan tera
tere karam ki kya baat hai

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

maslak-e-raza ! marhaba marhaba !
naGma-e-raza ! marhaba marhaba !
jazba-e-raza ! marhaba marhaba !
jalwa-e-raza ! marhaba marhaba !

‘ulma ne Thahraaya tujh ko mujaddid
‘ilm-o-‘amal ki kya baat hai

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

saani zamaane me.n tera na paaya
in ‘azmato.n ki kya baat hai

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

naa’to.n ne teri rang jamaaya
tere suKHan ki kya baat hai

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

wo shaa’iri teri, allahu akbar !
‘ishq-e-nabi ki kyaa baat hai

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

maslak-e-raza ! marhaba marhaba !
naGma-e-raza ! marhaba marhaba !
jazba-e-raza ! marhaba marhaba !
jalwa-e-raza ! marhaba marhaba !

ja.D kaaT di saare fitno.n ki tune
kilk-e-raza ki kya baat hai

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

tu bhi sagaan-e-dar me.n hai, Faani !
is silsile ki kya baat hai

ahmad raza ki kya baat hai
mere raza ki kya baat hai

maslak-e-raza ! marhaba marhaba !
naGma-e-raza ! marhaba marhaba !
jazba-e-raza ! marhaba marhaba !
jalwa-e-raza ! marhaba marhaba !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *