Ai Madine Ke Taajdaar Tujhe Ahl-e-Imaan Salaam Kehte Hain Naat Lyrics

Ai Madine Ke Taajdaar Tujhe Ahl-e-Imaan Salaam Kehte Hain Naat Lyrics

 

 

ए मदीने के ताजदार ! तुझे
अहल-ए-ईमाँ सलाम कहते हैं
तेरे ‘उश्शाक़, तेरे दीवाने
जान-ए-जानाँ ! सलाम कहते हैं

जो मदीने से दूर रहते हैं
हिज्र-ओ-फ़ुर्क़त का रंज सहते हैं
वो तलबगार-ए-दीद रो रो कर
ए मेरी जाँ ! सलाम कहते हैं

जिन को दुनिया के ग़म सताते हैं
ठोकरें दर-ब-दर की खाते हैं
ग़म-नसीबों के चारा-गर ! तुम को
वो परेशाँ सलाम कहते हैं

दूर दुनिया के रंज-ओ-ग़म कर दो
और सीने में अपना ग़म भर दो
उन को चश्मान-ए-तर ‘अता कर दो
जो भी, सुल्ताँ ! सलाम कहते हैं

जो तेरे ‘इश्क़ में तड़पते हैं
हाज़री के लिए तरसते हैं
इज़्न-ए-तयबा की आस में, आक़ा !
वो पुर-अरमाँ सलाम कहते हैं

तेरे रौज़े की जालियों के पास
आक़ा ! रहम-ओ-करम की ले कर आस
कितने दुखियारे रोज़ आ आ के
शाह-ए-ज़ीशाँ ! सलाम कहते हैं

आरज़ू-ए-हरम है सीने में
अब तो बुलवाइए मदीने में
तुझ से तुझ ही को माँगते हैं जो
वो मुसलमाँ सलाम कहते हैं

रुख़ से पर्दे को अब उठा दीजे
अपने क़दमों से अब लगा लीजे
आह ! जो नेकियों से हैं यकसर
ख़ाली दामाँ सलाम कहते हैं

आप ‘अत्तार क्यूँ परेशाँ हैं ?
बद से बद-तर भी ज़ेर-ए-दामाँ हैं
उन पे रहमत वो ख़ास करते हैं
जो मुसलमाँ सलाम कहते हैं

शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
अब्दुर्रउफ़ रूफ़ी
अहमद रज़ा अत्तारी
अदनान रज़ा क़ादरी

 

ai madine ke taajdaar ! tujhe
ahl-e-imaa.n salaam kehte hai.n
tere ‘ushshaaq, tere deewaane
jaan-e-jaanaa.n ! salaam kehte hai.n

jo madine se door rehte hai.n
hijr-o-furqat ka ranj sehte hai.n
wo talabgaar-e-deed ro ro kar
ai meri jaa.n ! salaam kehte hai.n

jin ko duniya ke Gam sataate hai.n
Thokre.n dar-ba-dar ki khaate hai.n
Gam-naseebo.n ke chaara-gar ! tum ko
wo pareshaa.n salaam kehte hai.n

door duniya ke ranj-o-Gam kar do
aur seene me.n apna Gam bhar do
un ko chashmaan-e-tar ‘ata kar do
jo bhi, sultaa.n ! salaam kehte hai.n

jo tere ‘ishq me.n ta.Dapte hai.n
haazri ke lie taraste hai.n
izn-e-tayba ki aas me.n, aaqa !
wo pur-armaa.n salaam kehte hai.n

tere rauze ki jaaliyo.n ke paas
aaqa ! rahm-o-karam ki le kar aas
kitne dukhiyaare roz aa aa kar
shaah-e-zeeshaa.n ! salaam kehte hai.n

aarzoo-e-haram hai seene me.n
ab to bulwaaiye madine me.n
tujh se tujh hi ko maangte hai.n jo
wo musalmaa.n salaam kehte hai.n

ruKH se parde ko ab uTha deeje
apne qadmo.n se ab laga deeje
aah ! jo nekiyo.n se hai.n yaksar
KHaali daamaa.n salaam kehte hai.n

aap ‘Attar kyu.n pareshaa.n hai.n ?
bad se bad-tar bhi zer-e-daamaa.n hai.n
un pe rahmat wo KHaas karte hai.n
jo musalmaa.n salaam kehte hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *