Aise Hote Hain Ali Ke Naukar Naat Lyrics

Aise Hote Hain Ali Ke Naukar Naat Lyrics

 

 

मौला ‘अली ! मुश्किल-कुशा !
मौला ‘अली ! मुश्किल-कुशा !

वो नहीं मानते हैदर को ख़ुदा के जैसा
बा’द नबियों के वो सिद्दीक़ को जाने आ’ला
वो नहीं मानते हैदर को नबी से बढ़ कर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर
ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर

ज़िक्र-ए-सरकार में करते हैं जो दिन-रात बसर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर
ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर

आल-ओ-असहाब-ए-नबी के हैं तराने लब पर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर
ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर

‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !
‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !

दीन-ए-हक़ के लिए घर-बार लुटा देते हैं
जो बहत्तर भी हज़ारों को मिटा देते हैं
तोड़ देते हैं जो मैदान में बातिल की कमर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर
ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर

‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !
‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !

‘इल्म का बाब हैं और शेर ख़ुदा के हैं ‘अली
वो ‘अली, जिन को मेरे आक़ा की बेटी है मिली
झूम कर यूँ बयाँ करते हैं जो शान-ए-हैदर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर
ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर

मुस्तफ़ा पे हैं फ़िदा ! मौला ‘अली वाले !
हैं सहाबा के गदा ! मौला ‘अली वाले !
नाम लें सिद्दीक़ का ! मौला ‘अली वाले !
चार यारों पे फ़िदा ! मौला ‘अली वाले !

मुस्तफ़ा पे हैं फ़िदा ! हैं सहाबा के गदा !
नाम लें सिद्दीक़ का ! चार यारों पर फ़िदा !

मौला ‘अली वाले ! मौला ‘अली वाले !
मौला ‘अली वाले ! मौला ‘अली वाले !

‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !
‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !

इज़्ज़त-ए-आक़ा पे देते हैं जो पहरा हर-दम
जिन के होंटों पे है लब्बैक का ना’रा हर-दम
जिन के आगे न रुके जंग में कोई लश्कर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर
ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर

‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !
‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !

कोई मौसम, कोई भी वक़्त, कोई भी ‘इलाक़ा हो
जहाँ ज़िक्र-ए-‘अली छेड़ा, वहाँ दीवाने आ बैठे

‘अली वालों का मरना भी कोई मरने में मरना है !
चले अपने मकाँ से और ‘अली के दर पे जा बैठे

इधर रुख़्सत किया सब ने, उधर आए ‘अली लेने
यहाँ सब रो रहे थे, हम वहाँ महफ़िल सजा बैठे

अभी मैं क़ब्र में लेटा ही था, इक नूर सा फैला
कि मेरे सामने तो ख़ुद ‘अली-ए-मुर्तज़ा बैठे

‘अली के नाम की महफ़िल सजी शहर-ए-ख़मोशाँ में
थे जितने बा-वफ़ा वो सब के सब महफ़िल में आ बैठे

ये कौन आया कि इस्तिक़बाल को सब अम्बिया उट्ठे
न बैठेगा कोई तब तक, न जब तक मुस्तफ़ा बैठे

‘अली वाले जहाँ बैठे वहीं जन्नत बना बैठे

‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !
‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !

कोई बहलूल हुआ, कोई ग़ज़ाली है बना
कोई शिबली, कोई बग़दाद का वाली है बना
तख़्त-ए-शाही को लगाई है किसी ने ठोकर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर
ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर

‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !
‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !

ए मुसलमान ! सदा हैदरी किरदार पे चल
और अक़्वाल-ए-‘अली पर हो तेरा ऐसा ‘अमल
कि फ़रिश्ते भी कहें तेरी लहद के अंदर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर
ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर

प्यारे सिद्दीक़ पे तुम सब्ब-ओ-शतम करते थे
उन की नफ़रत में भी तहरीर रक़म करते थे
क्या कहोगे जो कभी पूछेंगे तुम से हैदर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर ?

‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !
‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !

‘आशिक़-ए-मौला-‘अली का है तरीक़ा जैसा
अपना किरदार बना, आसिम-ए-रिज़वी ! ऐसा
देख के तुझ को कहें ख़ुद ये जनाब-ए-हैदर

ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर
ऐसे होते हैं ‘अली के नौकर

‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !
‘अली ‘अली मौला ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला ‘अली !

शायर:
मौलाना आसिम रिज़वी

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी और हाफ़िज़ अहसन क़ादरी

 

maula ‘ali ! mushkil-kusha !
maula ‘ali ! mushkil-kusha !

wo nahi.n maante haidar ko KHuda ke jaisa
baa’d nabiyo.n ke wo siddiq ko jaane aa’la
wo nahi.n maante haidar ko nabi se baDh kar

aise hote hai.n ‘ali ke naukar
aise hote hai.n ‘ali ke naukar

zikr-e-sarkaar me.n karte hai.n jo din-raat basar

aise hote hai.n ‘ali ke naukar
aise hote hai.n ‘ali ke naukar

aal-o-ashaab-e-nabi ke hai.n taraane lab par

aise hote hai.n ‘ali ke naukar
aise hote hai.n ‘ali ke naukar

‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !
‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !

deen-e-haq ke liye ghar-baar luta dete hai.n
jo bahattar bhi hazaaro.n ko mita dete hai.n
to.D dete hai.n jo maidaan me.n baatil ki kamar

aise hote hai.n ‘ali ke naukar
aise hote hai.n ‘ali ke naukar

‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !
‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !

‘ilm ka baab hai.n aur sher KHuda ke hai.n ‘ali
wo ‘ali, jin ko mere aaqa ki beti hai mili
jhoom kar yu.n bayaa.n karte hai.n jo shaan-e-haidar

aise hote hai.n ‘ali ke naukar
aise hote hai.n ‘ali ke naukar

mustafa pe hai.n fida ! maula ‘ali waale !
hai.n sahaaba ke gada ! maula ‘ali waale !
naam le.n siddiq ka ! maula ‘ali waale !
chaar yaaro.n pe fida ! maula ‘ali waale !

mustafa pe hai.n fida ! hai.n sahaaba ke gada !
naam le.n siddiq ka ! chaar yaaro.n par fida !

maula ‘ali waale ! maula ‘ali waale !
maula ‘ali waale ! maula ‘ali waale !

‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !
‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !

izzat-e-aaqa pe dete hai.n jo pahra har-dam
jin ke honto.n pe hai labbaik ka naa’ra har-dam
jin ke aage na ruke jang me.n koi lashkar

aise hote hai.n ‘ali ke naukar
aise hote hai.n ‘ali ke naukar

‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !
‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !

koi mausam, koi bhi waqt, koi bhi ‘ilaaqa ho
jahaa.n zikr-e-‘ali chhe.Da, wahaa.n deewaane aa baithe

‘ali waalo.n ka marna bhi koi marne me.n marna hai !
chale apne makaa.n se aur ‘ali ke dar pe jaa baithe

idhar ruKHsat kiya sab ne, udhar aae ‘ali lene
yahaa.n sab ro rahe the, ham wahaa.n mahfil saja baithe

abhi mai.n qabr me.n leta hi tha, ik noor saa phaila
ki mere saamne to KHud ‘ali-e-murtaza baithe

‘ali ke naam ki mahfil saji shahar-e-KHamoshaa.n me.n
the jitne baa-wafa wo sab ke sab mahfil me.n aa baithe

ye kaun aaya ki istiqbaal ko sab ambiya uTThe
na baithega koi tab tak, na jab tak mustafa baithe

‘ali waale jahaa.n baithe wahi.n jannat bana baithe

‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !
‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !

koi bahlool huaa, koi gazaali hai bana
koi shibli, koi baGdaad ka waali hai bana
taKHt-e-shaahi ko lagaai hai kisi ne Thokar

aise hote hai.n ‘ali ke naukar
aise hote hai.n ‘ali ke naukar

‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !
‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !

ai musalmaan ! sada haidri kirdaar pe chal
aur aqwaal-e-‘ali par ho tera aisa ‘amal
ki farishte bhi kahe.n teri lahad ke andar

aise hote hai.n ‘ali ke naukar
aise hote hai.n ‘ali ke naukar

pyaare siddiq pe tum sabb-o-shatam karte the
un ki nafrat me.n bhi tahreer raqam karte the
kya kahoge jo kabhi poochhe.nge tum se haidar

aise hote hai.n ‘ali ke naukar ?

‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !
‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !

‘aashiq-e-maula-‘ali ka hai tareeqa jaisa
apna kirdaar bana, Aasim-e-Rizvi ! aisa
dekh ke tujh ko kahe.n KHud ye janaab-e-haidar

aise hote hai.n ‘ali ke naukar
aise hote hai.n ‘ali ke naukar

‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !
‘ali ‘ali maula ‘ali ! ‘ali ‘ali maula ‘ali !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *