Allah Tera Hai Ehsaan Naat Lyrics

Allah Tera Hai Ehsaan Naat Lyrics

 

 

 

Allah Tera Hai Ehsaan | Noor-e-Ramzaan

 

 

शुक्र-ए-ख़ुदा करो, मह-ए-रहमान आ गया
तक़्सीम करने ने’मतें रमज़ान आ गया

अल्लाह तेरा है एहसान
रोज़े, नमाज़ें और क़ुरआन
हैं ये सब रूह-ए-ईमान
नूर-ए-रमज़ान

नूर-ए-रमज़ान ! नूर-ए-रमज़ान !
नूर-ए-रमज़ान ! नूर-ए-रमज़ान !

‘इल्म-ओ-अदब सिखलाएँगे
दीन-ए-ख़ुदा फैलाएँगे
मस्जिद में भी जाएँगे
हम्द-ओ-ना’त सुनाएँगे

अल्लाह तेरा है एहसान
तू ने बढ़ा दी सब की शान
आया है बन के मेहमान
नूर-ए-रमज़ान

नूर-ए-रमज़ान ! नूर-ए-रमज़ान !
नूर-ए-रमज़ान ! नूर-ए-रमज़ान !

कैसी हवा-ए-‘इश्क़ चली
ख़त्म हुई नफ़रत दिल की
बाँट रहे हैं प्यार सभी
सहरी हो या इफ़्तारी

अल्लाह तेरा है एहसान
एक हुए सारे इंसान
सज गए घर घर दस्तर-ख़्वान
नूर-ए-रमज़ान

नूर-ए-रमज़ान ! नूर-ए-रमज़ान !
नूर-ए-रमज़ान ! नूर-ए-रमज़ान !

मेरी ख़ातिर, ख़ुदा ! तू ने क्या क्या किया
तू ने ख़ुशियों से दामन मेरा भर दिया
और बदले में मैंने तुझे क्या दिया
इन गुनाहों पे दिल रो रहा है मेरा
मैंने माँ-बाप का हक़ अदा न किया
तेरे बंदों का दिल भी दुखाया बड़ा
न ही ख़ैरात दी, न ही सदक़ा दिया
सिर्फ़ अपने ही बारे में सोचा किया
न नमाज़ें पढ़ी, न ही रोज़ा रखा
और ‘इबादात का हक़ अदा न हुआ
फिर भी तू ने करम अपना जारी रखा
तू सख़ी है बड़ा, तू सख़ी है बड़ा
मैं पशेमान हूँ, रहम कर दे, ख़ुदा !
रहम कर दे, ख़ुदा ! रहम कर दे, ख़ुदा !

है ये बख़्शिश का सामान
सज्दे में है हर इंसान
क्या सज्जाद और क्या फ़रहान
नूर-ए-रमज़ान

नूर-ए-रमज़ान ! नूर-ए-रमज़ान !
नूर-ए-रमज़ान ! नूर-ए-रमज़ान !

शायर:
मीर सज्जाद

ना’त-ख़्वाँ:
फ़रहान अली वारिस

 

shukr-e-KHuda karo, mah-e-rahmaan aa gaya
taqseem karne ne’mate.n ramzaan aa gaya

allah tera hai ehsaan
roze, namaaze.n aur qur.aan
hai.n ye sab rooh-e-imaan
noor-e-ramzaan

noor-e-ramzaan ! noor-e-ramzaan !
noor-e-ramzaan ! noor-e-ramzaan !

‘ilm-o-adab sikhlaaenge
deen-e-KHuda phailaaenge
masjid me.n bhi jaaenge
hamd-o-naa’t sunaaenge

allah tera hai ehsaan
tune ba.Dha di sab ki shaan
aaya hai ban ke mehmaan
noor-e-ramzaan

noor-e-ramzaan ! noor-e-ramzaan !
noor-e-ramzaan ! noor-e-ramzaan !

kaisi hawa-e-‘ishq chali
KHatm hui nafrat dil ki
baanT rahe hai.n pyaar sabhi
sahri ho ya iftaari

allah tera hai ehsaan
ek hue saare insaan
saj gae ghar ghar dastar-KHwaan
noor-e-ramzaan

noor-e-ramzaan ! noor-e-ramzaan !
noor-e-ramzaan ! noor-e-ramzaan !

meri KHaatir, KHuda ! tune kya kya kiya
tune KHushiyo.n se daaman mera bhar diya
aur badle me.n mai.n ne tujhe kya diya
in gunaaho.n pe dil ro raha hai mera
mai.n ne maa.n-baap ka haq ada na kiya
tere bando.n ka dil bhi dukhaaya ba.Da
na hi KHairaat di, na hi sadqa diya
sirf apne hi baare me.n socha kiya
na namaaze.n pa.Dhi, na hi roza rakha
aur ‘ibaadaat ka haq ada na huaa
phir bhi tune karam apna jaari rakha
tu saKHi hai ba.Da, tu saKHi hai ba.Da
mai.n pashemaan hu.n, rahm kar de, KHuda !
rahm kar de, KHuda ! rahm kar de, KHuda !

hai ye baKHshish ka saamaan
sajde me.n hai har insaan
kya Sajjad aur kya Farhaan
noor-e-ramzaan

noor-e-ramzaan ! noor-e-ramzaan !
noor-e-ramzaan ! noor-e-ramzaan !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *