Apne Dar Par Apne Mangte Ko Bulaaen, Ghaus-e-Paak Naat Lyrics

Apne Dar Par Apne Mangte Ko Bulaaen Ghaus-e-Paak Naat Lyrics

 

 

शाह-ए-जीलाँ ! पीर-ए-पीराँ !
शाह-ए-जीलाँ ! पीर-ए-पीराँ !

मुर्शिद मेरे ग़ौस-ए-पाक !
मुर्शिद मेरे ग़ौस-ए-पाक !

शाह-ए-जीलाँ ! पीर-ए-पीराँ !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !
और अपनी दीद का शर्बत पिलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

हो रही हैं आप की हम पर ‘अताएँ, ग़ौस-ए-पाक !
क्यूँ न फिर हम आप के ना’रे लगाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !
और अपनी दीद का शर्बत पिलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

शाह-ए-जीलाँ ! पीर-ए-पीराँ !

है वो तेरा दबदबा कि तेरे नाम-ए-पाक से
थरथराते हैं सभी जिन्न-ओ-बलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !
और अपनी दीद का शर्बत पिलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

मुर्शिद मेरे ग़ौस-ए-पाक !
मुर्शिद मेरे ग़ौस-ए-पाक !

आप मेरे दिल, जिगर में और आँखों में रहें
याद बन कर मेरी नस-नस में समाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !
और अपनी दीद का शर्बत पिलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

शाह-ए-जीलाँ ! पीर-ए-पीराँ !

बे-वफ़ा हैं हम, निभा पाए न कुछ भी आप से
हश्र तक बस आप ही हम को निभाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !
और अपनी दीद का शर्बत पिलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

मुर्शिद मेरे ग़ौस-ए-पाक !
मुर्शिद मेरे ग़ौस-ए-पाक !

जाँ-कनी का वक़्त है, बहर-ए-‘अली-उल-मुर्तज़ा
अपने ख़ाकी के सिरहाने आप आएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !
और अपनी दीद का शर्बत पिलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

अपने दर पर, अपने मँगते को बुलाएँ, ग़ौस-ए-पाक !

शाह-ए-जीलाँ ! पीर-ए-पीराँ !
शाह-ए-जीलाँ ! पीर-ए-पीराँ !

ना’त-ख़्वाँ:
मदनी रज़ा अत्तारी, अज़ीम अत्तारी,
नूर ‘आलम अत्तारी और हस्सान अत्तारी

 

shaah-e-jeelaa.n ! peer-e-paaraa.n !
shaah-e-jeelaa.n ! peer-e-paaraa.n !

murshid mere Gaus-e-paak !
murshid mere Gaus-e-paak !

shaah-e-jeelaa.n ! peer-e-paaraa.n !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !
aur apni deed ka sharbat pilaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !

ho rahi hai.n aap ki ham par ‘ataae.n, Gaus-e-paak !
kyu.n na phir ham aap ke naa’re lagaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !
aur apni deed ka sharbat pilaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !

shaah-e-jeelaa.n ! peer-e-paaraa.n !

hai wo tera dabdaba ki tere naam-e-paak se
thartharaate hai.n sabhi jinn-o-balaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !
aur apni deed ka sharbat pilaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !

murshid mere Gaus-e-paak !
murshid mere Gaus-e-paak !

aap mere dil, jigar me.n aur aankho.n me.n rahe.n
yaad ban kar meri nas-nas me.n samaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !
aur apni deed ka sharbat pilaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !

shaah-e-jeelaa.n ! peer-e-paaraa.n !

be-wafa hai.n ham, nibha paae na kuchh bhi aap se
hashr tak bas aap hi ham ko nibhaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !
aur apni deed ka sharbat pilaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !

murshid mere Gaus-e-paak !
murshid mere Gaus-e-paak !

jaa.n-kani ka waqt hai, bahr-e-‘ali-ul-murtaza
apne KHaaki ke sirhaane aap aae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !
aur apni deed ka sharbat pilaae.n, Gaus-e-paak !

apne dar par, apne mangte ko bulaae.n, Gaus-e-paak !

shaah-e-jeelaa.n ! peer-e-paaraa.n !
shaah-e-jeelaa.n ! peer-e-paaraa.n !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *