Apne Malik Ka Main Naam Le Kar Bazm Ki Ibtida Kar Raha Hoon Naat Lyrics

Apne Malik Ka Main Naam Le Kar Bazm Ki Ibtida Kar Raha Hoon Naat Lyrics

 

 

 

अपने मालिक का मैं नाम ले कर
बज़्म की इब्तिदा कर रहा हूँ
या ख़ुदा ! आबरू रख मेरी तू
तेरी हम्द-ओ-सना कर रहा हूँ

तू जो चाहे तो बन जाए क़िस्मत
मेरे सज्दों की क्या है हक़ीक़त
तेरी चौखट पे सर को झुका कर
फ़र्ज़ अपना अदा कर रहा हूँ

मैंने दुनिया का देखा नज़ारा
अल-मदद कह के मैंने पुकारा
मुझ को अपनी पनाहों में रखना
बस यही इल्तिजा कर रहा हूँ

आज महफ़िल में बैठे हैं जितने
सब के दिल की तमन्ना हो पूरी
सब को हाजी बना दे तू, मौला !
मैं तड़प कर दु’आ कर रहा हूँ

अपने महबूब का दर दिखा दे
मेरा सोया मुक़द्दर जगा दे
लुत्फ़-ए-दुनिया को ले आज से मैं
अपने दिल से जुदा कर रहा हूँ

ना’त-ख़्वाँ:
हफ़ीज़ुर्रहमान

 

apne maalik ka mai.n naam le kar
bazm ki ibtida kar raha hu.n
ya KHuda ! aabroo rakh meri tu
teri hamd-o-sana kar raha hu.n

tu jo chaahe to ban jaae qismat
mere sajdo.n ki kya hai haqeeqat
teri chaukhaT pe sar ko jhuka kar
farz apna ada kar raha hu.n

mai.n ne duniya ka dekha nazaara
al-madad keh ke mai.n ne pukaara
mujh ko apni panaaho.n me.n rakhna
bas yahi iltija kar raha hu.n

aaj mehfil me.n baiThe hai.n jitne
sab ke dil ki tamanna ho poori
sab ko haaji bana de tu, maula !
mai.n ta.Dap kar du’aa kar raha hu.n

apne mehboob ka dar dikha de
mera soya muqaddar jaga de
lutf-e-duniya ko le aaj se mai.n
apne dil se juda kar raha hu.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *