Attar Ki Chaukhat Ka Naukar Attar Ki Nisbat Waala Hun Naat Lyrics

Attar Ki Chaukhat Ka Naukar Attar Ki Nisbat Waala Hun Naat Lyrics

 

 

‘अत्तार की चौखट का नौकर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ
मुझ को न ज़माने का है डर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

‘अत्तार की चौखट का नौकर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

रमज़ान की छब्बीसवीं शब में
अल्लाह की रहमत से हम को
‘अत्तार मिला सब से बेहतर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

‘अत्तार की चौखट का नौकर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

है लाखों मुरीदों की धड़कन
‘अत्तार तेरी प्यारी सूरत
हर शख़्स कहे ये ख़ुश हो कर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

‘अत्तार की चौखट का नौकर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

फैलाया है मदनी चैनल से
पैग़ाम नबी का हर घर में
बस एक सदा है घर-ब-घर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

‘अत्तार की चौखट का नौकर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

‘उल्मा की दुआएँ शामिल हैं
‘अत्तार तेरे हर कामों में
है नाज़ मुझे भी क़िस्मत पर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

‘अत्तार की चौखट का नौकर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

हम क़ादरी, रज़वी, ज़ियाई हैं
और ग़ौस की निस्बत पाई है
तो ना’रा लगाओ सब मिल कर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

‘अत्तार की चौखट का नौकर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

तहरीक चलाई है जिस ने
इक धूम मचाई है जिस ने
क़ुर्बान करूँगा जाँ उस पर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

‘अत्तार की चौखट का नौकर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

बेख़ुद को मिला है दुनिया में
‘अत्तार की निस्बत से सब कुछ
फिर क्यूँ न कहे बेख़ुद अक्सर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

‘अत्तार की चौखट का नौकर
‘अत्तार की निस्बत वाला हूँ

शायर:
वसीम बेख़ुद माण्डलवी

नात-ख़्वाँ:
क़ुरैशी ब्रधर्स

 

‘attar ki chaukhat ka naukar
‘attar ki nisbat waala hu.n
mujh ko na zamaane ka hai Dar
‘attar ki nisbat waala hu.n

‘attar ki chaukhat ka naukar
‘attar ki nisbat waala hu.n

ramzaan ki chhabbiswi.n shab me.n
allah ki rahmat se ham ko
‘attar mila sab se behtar
‘attar ki nisbat waala hu.n

‘attar ki chaukhat ka naukar
‘attar ki nisbat waala hu.n

hai laakho.n mureedo.n ki dha.Dkan
‘attar teri pyaari soorat
har shaKHs kahe ye KHush ho kar
‘attar ki nisbat waala hu.n

‘attar ki chaukhat ka naukar
‘attar ki nisbat waala hu.n

phailaaya hai madani channel se
paiGaam nabi ka har ghar me.n
bas ek sada hai ghar-ba-ghar
‘attar ki nisbat waala hu.n

‘attar ki chaukhat ka naukar
‘attar ki nisbat waala hu.n

‘ulma ki duaae.n shaamil hai.n
‘attar tere har kaamo.n me.n
hai naaz mujhe bhi qismat par
‘attar ki nisbat waala hu.n

‘attar ki chaukhat ka naukar
‘attar ki nisbat waala hu.n

ham qaadri, razvi, ziyaaee hai.n
aur Gaus ki nisbat paaee hai
to naa’ra lagaao sab mil kar
‘attar ki nisbat waala hu.n

‘attar ki chaukhat ka naukar
‘attar ki nisbat waala hu.n

tahreek chalaai hai jis ne
ik dhoom machaai hai jis ne
qurbaan karunga jaa.n us par
‘attar ki nisbat waala hu.n

‘attar ki chaukhat ka naukar
‘attar ki nisbat waala hu.n

BeKHud ko mila hai duniya me.n
‘attar ki nisbat se sab kuchh
phir kyu.n na kahe BeKHud aksar
‘attar ki nisbat waala hu.n

‘attar ki chaukhat ka naukar
‘attar ki nisbat waala hu.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *