Ba-Ghaur Sun Le Zamaana Ki Ham Husaini Hain Naat Lyrics

Ba-Ghaur Sun Le Zamaana Ki Ham Husaini Hain Naat Lyrics

 

हम हुसैनी हैं, हम हुसैनी हैं
हम हुसैनी हैं, हम हुसैनी हैं

ब-ग़ौर सुन ले ज़माना कि हम हुसैनी हैं
है ख़ुल्द अपना ठिकाना कि हम हुसैनी हैं

ब-ग़ौर सुन ले ज़माना कि हम हुसैनी हैं

हमीं हैं हक़ के मुहाफ़िज़, हमारे सामने तुम
मिसाल हक़ की न लाना कि हम हुसैनी हैं

ब-ग़ौर सुन ले ज़माना कि हम हुसैनी हैं

अगर हो हसरत-ए-क़ुर्ब-ए-रसूल-ए-वाला-तबार
तो यार हम को बनाना कि हम हुसैनी हैं

ब-ग़ौर सुन ले ज़माना कि हम हुसैनी हैं

हमारी शौकतें हर दिन ‘उरूज़ पाती है
‘अबस है हम को घटाना कि हम हुसैनी हैं

ब-ग़ौर सुन ले ज़माना कि हम हुसैनी हैं

यज़ीदी फ़िक्र को अज़हान-ए-क़ौम-ए-मुस्लिम से
निकाल कर है मिटाना कि हम हुसैनी हैं

यज़ीदियों को भटकने न देना अपने क़रीब
ये कह के दूर भगाना कि हम हुसैनी हैं

ब-ग़ौर सुन ले ज़माना कि हम हुसैनी हैं

कोई जो पूछे कि मंसूब किस से हो तुम लोग
तो फ़ख़्र से ये बताना कि हम हुसैनी हैं

ब-ग़ौर सुन ले ज़माना कि हम हुसैनी हैं

अगर समझ ले इमाम-ए-हुसैन की अज़मत
तो फिर कहेगा ज़माना कि हम हुसैनी हैं

ब-ग़ौर सुन ले ज़माना कि हम हुसैनी हैं

पड़े जो वक़्त तो क़ुर्बानियाँ भी पेश करें
बनाएँगे न बहाना कि हम हुसैनी हैं

हुसैनी होने का दा’वा ही बस नहीं, अर्फ़क़ !
‘अमल भी कर के दिखाना कि हम हुसैनी हैं

ब-ग़ौर सुन ले ज़माना कि हम हुसैनी हैं

नात-ख़्वाँ:
असद रजा अत्तारी

 

ham husaini hai.n, ham husaini hai.n
ham husaini hai.n, ham husaini hai.n

ba-Gaur sun le zamaana ki ham husaini hai.n
hai KHuld apna Thikaana ki ham husaini hai.n

ba-Gaur sun le zamaana ki ham husaini hai.n

hamee.n hai.n haq ke muhaafiz, –
hamaare saamne tum
misaal haq ki na laana ki ham husaini hai.n

ba-Gaur sun le zamaana ki ham husaini hai.n

agar ho hasrat-e-qurb-e-rasool-e-waala-tabaar
to yaar ham ko banaana ki ham husaini hai.n

ba-Gaur sun le zamaana ki ham husaini hai.n

hamaari shaukate.n har din ‘urooz paati hai.n
‘abas hai ham ko ghaTaana ki ham husaini hai.n

ba-Gaur sun le zamaana ki ham husaini hai.n

yazeedi fikr ko azhaan-e-qaum-e-muslim se
nikaal kar hai miTaana ki ham husaini hai.n

yazeediyo.n ko bhaTakne na dena apne qareeb
ye kah ke door bhagaana ki ham husaini hai.n

ba-Gaur sun le zamaana ki ham husaini hai.n

koi jo pooche ki mansoob kis se ho tum log
to faKHr se ye bataana ki ham husaini hai.n

ba-Gaur sun le zamaana ki ham husaini hai.n

agar samajh le imaam-e-husain ki azmat
to phir kahega zamaana ki ham husaini hai.n

ba-Gaur sun le zamaana ki ham husaini hai.n

pa.De jo waqt to qurbaaniyaa.n bhi pesh kare.n
banaae.nge na bahaana ki ham husaini hai.n

husaini hone ka daa’wa hi bas nahi.n, Arfaq !
‘amal bhi kar ke dikhaana ki ham husaini hai.n

ba-Gaur sun le zamaana ki ham husaini hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *