Baghdad Mujhe Pahuncha De Khuda Chadar Main Chadhaun Phoolon Ki Naat Lyrics

Baghdad Mujhe Pahuncha De Khuda Chadar Main Chadhaun Phoolon Ki Naat Lyrics

 

 

ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर ! ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर ! ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !

मैं क़ादरी हूँ, शुक्र है रब्ब-ए-क़दीर का
हाथों में मेरे हाथ है पीरान-ए-पीर का

बग़दाद मुझे पहुँचा दे, ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की
मैं सदक़े करूँ तन-मन अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

मेरे ग्यारहवीं वाले पीर ! ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरे दर का मैं फ़क़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
मेरी चमका दी तक़दीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरा रुत्बा बे-नज़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !

बग़दाद मुझे पहुँचा दे, ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की
मैं सदक़े करूँ तन-मन अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

फ़रज़ंद-ए-‘अली हो नूर-ए-नबी, महबूब-ए-ख़ुदा है ज़ात तेरी
इक बार दिखा रौज़ा अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

बग़दाद मुझे पहुँचा दे, ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की
मैं सदक़े करूँ तन-मन अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

लाचार, ग़रीब और मुफ़्लिस हूँ, फ़ुर्क़त में हमेशा रोता हूँ
बुलवा लो मुझे, महबूब-ए-ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

बग़दाद मुझे पहुँचा दे, ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की
मैं सदक़े करूँ तन-मन अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

ग़ौस-ए-आ’ज़म का दरबार, अल्लाह अल्लाह क्या कहना
बग़दादी नूरी बाज़ार, अल्लाह अल्लाह क्या कहना

बग़दाद यहाँ से आऊँगा, रौज़ा मैं तेरा जब देखूँगा
चौखट पे झुका कर दिल अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

बग़दाद मुझे पहुँचा दे, ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की
मैं सदक़े करूँ तन-मन अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

मेरे ग्यारहवीं वाले पीर ! ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरे दर का मैं फ़क़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
मेरी चमका दी तक़दीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरा रुत्बा बे-नज़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !

बग़दाद मुझे पहुँचा दे, ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की
मैं सदक़े करूँ तन-मन अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

का’बा हो, मदीना हो या नजफ़, हर सिम्त नज़र तुम आते हो
कुछ ऐसी लगी है तुम से लगन, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

बग़दाद मुझे पहुँचा दे, ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की
मैं सदक़े करूँ तन-मन अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

दूरी से तेरी, महबूब-ए-ख़ुदा ! ग़िर्बाल हुवा सीना मेरा
ले मुझ को बुला, मेरे मौला ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

बग़दाद मुझे पहुँचा दे, ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की
मैं सदक़े करूँ तन-मन अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

मैं दूर हूँ पर मायूस नहीं, फ़ैज़ान तुम्हारा ऐसा है
मुर्शिद में मिला तेरा दर्शन, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

मेरे ग्यारहवीं वाले पीर ! ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरे दर का मैं फ़क़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
मेरी चमका दी तक़दीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरा रुत्बा बे-नज़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !

बग़दाद मुझे पहुँचा दे, ख़ुदा ! चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की
मैं सदक़े करूँ तन-मन अपना, चादर मैं चढ़ाऊँ फूलों की

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद इल्मुद्दीन क़ादरी
अरशद अशरफ़ी

 

Gaus-e-aa’zam dast-geer ! Gaus-e-aa’zam dast-geer !
Gaus-e-aa’zam dast-geer ! Gaus-e-aa’zam dast-geer !

mai.n qaadri hu.n, shukr hai rabb-e-qadeer ka
haatho.n me.n mere haath hai peeraan-e-peer ka

baGdaad mujhe pahuncha de, KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki
mai.n sadqe karu.n tan-man apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

mere gyaarahwi.n waale peer ! Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tere dar ka mai.n faqeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
meri chamka de taqdeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tera rutba be-nazeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !

baGdaad mujhe pahuncha de, KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki
mai.n sadqe karu.n tan-man apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

farzand-e-‘ali ho noor-e-nabi
mahboob-e-KHuda hai zaat teri
ik baar dikha rauza apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

baGdaad mujhe pahuncha de, KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki
mai.n sadqe karu.n tan-man apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

laachaar, Gareeb aur muflis hu.n
furqat me.n hamesha rota hu.n
bulwa lo mujhe, mahboob-e-KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

baGdaad mujhe pahuncha de, KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki
mai.n sadqe karu.n tan-man apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

Gaus-e-aa’zam ka darbaar, allah allah kya kehna
baGdaadi noori baazaar, allah allah kya kehna

baGdaad yaha.n se aaunga
rauza mai.n tera jab dekhunga
chaukhaT pe jhuka kar dil apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

baGdaad mujhe pahuncha de, KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki
mai.n sadqe karu.n tan-man apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

mere gyaarahwi.n waale peer ! Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tere dar ka mai.n faqeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
meri chamka de taqdeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tera rutba be-nazeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !

baGdaad mujhe pahuncha de, KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki
mai.n sadqe karu.n tan-man apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

kaa’ba ho, madina ho ya najaf
har simt nazar tum aate ho
kuchh aisi lagi hai tum se lagan
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

baGdaad mujhe pahuncha de, KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki
mai.n sadqe karu.n tan-man apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

doori se teri, mahboob-e-KHuda !
Girbaal huwa seena mera
le mujh ko bula, mere maula !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

baGdaad mujhe pahuncha de, KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki
mai.n sadqe karu.n tan-man apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

mai.n door hu.n par maayoos nahi.n
faizaan tumhaara aisa hai
murshid me.n mila tera darshan
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

mere gyaarahwi.n waale peer ! Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tere dar ka mai.n faqeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
meri chamka de taqdeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tera rutba be-nazeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !

baGdaad mujhe pahuncha de, KHuda !
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki
mai.n sadqe karu.n tan-man apna
chaadar mai.n cha.Dhaau.n phoolo.n ki

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *