Barahwin Ka Chand Aaya Naat Lyrics

Barahwin Ka Chand Aaya Naat Lyrics

 

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

झंडे लगाओ ! घर को सजाओ !
कर के चराग़ाँ ख़ुशियाँ मनाओ !

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

बच्चा बच्चा मुस्कुराया, बारहवीं का चाँद आया
बच्चा बच्चा मुस्कुराया, बारहवीं का चाँद आया

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

शादमानी के तरानें गूँजते हैं दहर में
वज्द में हर शख़्स आया, बारहवीं का चाँद आया

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

रौशनी ही रौशनी है चाँदनी ही चाँदनी
ज़र्रा-ज़र्रा जगमगाया, बारहवीं का चाँद आया

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

साज़-ए-जाँ पे बज रहा है एक नग़्मा बार-बार
आमिना का लाल आया, बारहवीं का चाँद आया

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

खिल उठीं कलियाँ मोहब्बत की, गुलों पर है निखार
बाग़-ए-उल्फ़त लहलहाया, बारहवीं का चाँद आया

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

हो गए हैं बंद सारे ज़ुल्मतों के बाब आज
दहर में वो नूर आया, बारहवीं का चाँद आया

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

शुक्र करते ही रहो रब का, उजागर ! सुब्ह-ओ-शाम
रब का कैसा फ़ज़्ल पाया, बारहवीं का चाँद आया

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

झंडे लगाओ ! घर को सजाओ !
कर के चराग़ाँ ख़ुशियाँ मनाओ !

बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद
बारहवीं का चाँद आया, बारहवीं का चाँद

आमद-ए-मुस्तफ़ा ! मरहबा मरहबा !
आमद-ए-मुजतबा ! मरहबा मरहबा !

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी
राओ अली हसनैन
अब्दुल मुक़ीत

 

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

jhande lagaao ! ghar ko sajaao !
kar ke charaaGaa.n KHushiyaa.n manaao !

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

bachcha bachcha muskuraaya, barahwi.n ka chaand aaya
bachcha bachcha muskuraaya, barahwi.n ka chaand aaya

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

shaadmaani ke taraane goonjte hai.n dahar me.n
wajd me.n har shaKHs aaya, barahwi.n ka chaand aaya

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

raushani hi raushani hai chaandni hi chaandni
zarra-zarra jagmagaaya, barahwi.n ka chaand aaya

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

saaz-e-jaa.n pe baj raha hai ek naGma baar-baar
aamina ka laal aaya, barahwi.n ka chaand aaya

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

khil uThi.n kaliyaa.n mohabbat ki, gulo.n par hai nikhaar
baaG-e-ulfat lahlahaaya, barahwi.n ka chaand aaya

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

ho gae hai.n band saare zulmato.n ke baab aaj
dahar me.n wo noor aaya, barahwi.n ka chaand aaya

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

shukr karte hi raho rab ka, Ujaagar ! sub.h-o-shaam
rab ka kaisa fazl paaya, barahwi.n ka chaand aaya

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

jhande lagaao ! ghar ko sajaao !
kar ke charaaGaa.n KHushiyaa.n manaao !

barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand
barahwi.n ka chaand aaya, barahwi.n ka chaand

aamad-e-mustafa ! marhaba marhaba !
aamad-e-mujataba ! marhaba marhaba !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *