Basti Wo Bataaun Kaisi Hai Jise Log Madina Kehte Hain Naat Lyrics

Basti Wo Bataaun Kaisi Hai Jise Log Madina Kehte Hain Naat Lyrics

 

 

बस्ती वो बताऊँ कैसी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं
इक रहमत-ओ-नूर की धरती है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

बस्ती वो बताऊँ कैसी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

जाते हैं सवाली की सूरत, आते हैं ग़ज़ाली की सूरत
ख़ैरात वहाँ ये बटती है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

बस्ती वो बताऊँ कैसी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

दुनिया-ओ-दीं का भला माँगो या इस से भी बढ़ के दु’आ माँगो
मक़बूल वहाँ हर अर्ज़ी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

बस्ती वो बताऊँ कैसी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

अपने तो हैं अपने ग़ैरों को और दुनिया भर के मरीज़ों को
इक्सीर वहाँ की मिट्टी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

बस्ती वो बताऊँ कैसी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

क्यूँ-कर न मु’अत्तर हो आख़िर, ए बाद-ए-सबा ! तेरा दामन
बू तू भी वहीं से लाती है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

बस्ती वो बताऊँ कैसी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

आँखों में चमक आ जाती है, दिल की धड़कन बढ़ जाती है
क्या मर्कज़-ए-कैफ़-ओ-मस्ती है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

बस्ती वो बताऊँ कैसी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

पूछा जो गया, मजबूरों की दिल-जूई का मर्कज़ भी है कोई ?
अर्फ़क़ ने पुकारा, हाँ जी है, जिसे लोग मदीना कहते हैं

शायर:
अहमद रज़ा फ़हर क़ादरी – अर्फ़क़

ना’त-ख़्वाँ:
असद रज़ा अत्तारी

 

basti wo bataau.n kaisi hai
jise log madina kehte hai.n
ik rahmat-o-noor ki dharti hai
jise log madina kehte hai.n

basti wo bataau.n kaisi hai
jise log madina kehte hai.n

jaate hai.n sawaali ki soorat
aate hai.n Gazaali ki soorat
KHairaat wahaa.n ye baT.ti hai
jise log madina kehte hai.n

basti wo bataau.n kaisi hai
jise log madina kehte hai.n

duniya-o-dee.n ka bhala maango
ya is se bhi ba.Dh ke du’aa maango
maqbool wahaa.n har arzee hai
jise log madina kehte hai.n

basti wo bataau.n kaisi hai
jise log madina kehte hai.n

apne to hai.n apne Gairo.n ko
aur duniya bhar ke mareezo.n ko
ikseer wahaa.n ki miTTi hai
jise log madina kehte hai.n

basti wo bataau.n kaisi hai
jise log madina kehte hai.n

kyu.n-kar na mu’attar ho aaKHir
ai baad-e-saba ! tera daaman
boo tu bhi wahi.n se laati hai
jise log madina kehte hai.n

basti wo bataau.n kaisi hai
jise log madina kehte hai.n

aankho.n me.n chamak aa jaati hai
dil ki dha.Dkan ba.Dh jaati hai
kya markaz-e-kaif-o-masti hai
jise log madina kehte hai.n

basti wo bataau.n kaisi hai
jise log madina kehte hai.n

poochha jo gayaa, majbooro.n ki
dil-jooee ka markaz bhi hai koi ?
Arfaq ne pukaara, haa.n jee hai
jise log madina kehte hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *