Bayaan Ho Kis Zabaan Se Martaba Siddiq-e-Akbar Ka Naat Lyrics

Bayaan Ho Kis Zabaan Se Martaba Siddiq-e-Akbar Ka Naat Lyrics

 

 

बयाँ हो किस ज़बाँ से मर्तबा सिद्दीक़-ए-अकबर का
है यार-ए-ग़ार महबूब-ए-ख़ुदा सिद्दीक़-ए-अकबर का

इलाही ! रहम फ़रमा ख़ादिम-ए-सिद्दीक़-ए-अकबर हूँ
तेरी रहमत के सदक़े, वास्ता सिद्दीक़-ए-अकबर का

रुसुल और अम्बिया के बा’द जो अफ़ज़ल हो ‘आलम से
ये ‘आलम में है किस का मर्तबा ? सिद्दीक़-ए-अकबर का

गदा सिद्दीक़-ए-अकबर का ख़ुदा से फ़ज़्ल पाता है
ख़ुदा के फ़ज़्ल से मैं हूँ गदा सिद्दीक़-ए-अकबर का

हुए फ़ारूक़-ओ-‘उस्मान-ओ-‘अली जब दाख़िल-ए-बै’अत
बना फ़ख़्र-ए-सलासिल सिलसिला सिद्दीक़-ए-अकबर का

नबी का और ख़ुदा का मद्ह-गो सिद्दीक़-ए-अकबर है
नबी सिद्दीक़-ए-अकबर का, ख़ुदा सिद्दीक़-ए-अकबर का

‘अली हैं उस के दुश्मन और वो दुश्मन ‘अली का है
जो दुश्मन ‘अक़्ल का, दुश्मन हुआ सिद्दीक़-ए-अकबर का

लुटाया राह-ए-हक़ में घर कई बार इस मोहब्बत से
कि लुट लुट कर, हसन ! घर बन गया सिद्दीक़-ए-अकबर का

शायर:
मौलाना हसन रज़ा ख़ान

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

bayaa.n ho kis zabaa.n se martaba siddiq-e-akbar ka
hai yaar-e-Gaar mahboob-e-KHuda siddiq-e-akbar ka

ilaahi ! rahm farma KHaadim-e-siddiq-e-akbar hu.n
teri rahmat ke sadqe, waasta siddiq-e-akbar ka

rusool aur ambiya ke baa’d jo afzal ho ‘aalam se
ye ‘aalam me.n hai kis ka martaba ? siddiq-e-akbar ka

gada siddiq-e-akbar ka KHuda se fazl paata hai
KHuda ke fazl se mai.n hu.n gada siddiq-e-akbar ka

hue faarooq-o-‘usmaan-o-‘ali jab daaKHil-e-bai’at
bana faKHr-e-salaasil silsila siddiq-e-akbar ka

nabi ka aur KHuda ka mad.h-go siddiq-e-akbar ka
nabi siddiq-e-akbar ka, KHuda siddiq-e-akbar ka

‘ali hai.n us ke dushman aur wo dushman ‘ali ka hai
jo dushman ‘aql ka, dushman huaa siddiq-e-akbar ka

luTaaya raah-e-haq me.n ghar kai baar is mohabbat se
ki luT luT kar, Hasan ! ghar ban gaya siddiq-e-akbar ka

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *