Bheek Ata Ai Nabi Mohtasham Ho Mere Aaqa Nigaah-e-Karam Ho Naat Lyrics

Bheek Ata Ai Nabi Mohtasham Ho Mere Aaqa Nigaah-e-Karam Ho Naat Lyrics

 

भीक ‘अता, ए नबी मोहतशम ! हो
मेरे आक़ा ! निगाह-ए-करम हो

दीद का हूँ तलबगार, आक़ा !
हूँ अगरचे गुनहगार, आक़ा !
इक झलक अपनी, सरकार आक़ा !
अब दिखा दो न इक बार, आक़ा !
इस गुनहगार पर भी करम हो
मेरे आक़ा ! निगाह-ए-करम हो

छूट जाए गुनाहों की ‘आदत
रब की दिल से करूँ मैं ‘इबादत
ऐसी कर दे तू नज़र-ए-‘इनायत
बस तेरे ग़म में, माह-ए-रिसालत !
दिल तड़पता रहे, आँख नम हो
मेरे आक़ा ! निगाह-ए-करम हो

है तमन्ना मेरी, मेरे दिलबर !
देख लूँ, काश ! हर साल आ कर
तेरी मस्जिद के मेहराब-ओ-मिम्बर
और रौज़े का पुर-कैफ़ मंज़र
फिर बयाँ हाल बा-चश्म-ए-नम हो
मेरे आक़ा ! निगाह-ए-करम हो

याद आता है मुझ को वो मंज़र
जब चला था मदीने से, दिलबर !
मुज़्तरिब क़ल्ब था, आँख थी तर
उस घड़ी ‘अर्ज़ ये थी ज़ुबाँ पर
बार बार आऊँ ऐसा करम हो
मेरे आक़ा ! निगाह-ए-करम हो

‘अर्ज़ करता ‘उबैद-ए-रज़ा है
जो तेरे दर का अदना गदा है
मुश्किलों में, शहा ! ये गिरा है
तुझ से इमदाद ये चाहता है
दूर इस का हर इक रंज-ओ-ग़म हो
मेरे आक़ा ! निगाह-ए-करम हो

शायर:
ओवैस रज़ा क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ अहमद रज़ा क़ादरी

 

bheek ‘ata, ai nabi mohtasham ! ho
mere aaqa ! nigaah-e-karam ho

deed ka hu.n talabgaar, aaqa !
hu.n agarche gunahgaar, aaqa !
ik jhalak apni, sarkaar aaqa !
ab dikha do na ik baar, aaqa !
is gunahgaar par bhi karam ho
mere aaqa ! nigaah-e-karam ho

chhoT jaae gunaaho.n ki ‘aadat
rab ki dil se karoo.n mai.n ‘ibaadat
aisi kar de tu nazr-e-‘inaayat
bas tere Gam me.n, maah-e-risaalat !
dil ta.Dapta rahe, aankh nam ho
mere aaqa ! nigaah-e-karam ho

hai tamanna meri, mere dilbar !
dekh lu.n, kaash ! har saal aa kar
teri masjid ke mehraab-o-mimbar
aur rauze ka pur-kaif manzar
phir bayaa.n haal baa-chashm-e-nam ho
mere aaqa ! nigaah-e-karam ho

yaad aata hai mujh ko wo manzar
jab chala tha madine se, dilbar !
muztarib qalb tha, aankh thi tar
us gha.Di ‘arz ye thi zubaa.n par
baar baar aau.n aisa karam ho
mere aaqa ! nigaah-e-karam ho

‘arz karta ‘Ubaid-e-Raza hai
jo tere dar ka adna gada hai
mushkilo.n me.n shaha ! ye gira hai
tujh se imdaad ye chaahta hai
door is ka har ik ranj-o-Gam ho
mere aaqa ! nigaah-e-karam ho

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *