Chaaron Taraf Hai Raushni Ramzaan Ki Aamad Hui Naat Lyrics

Chaaron Taraf Hai Raushni Ramzaan Ki Aamad Hui Naat Lyrics

 

 

आमद-ए ! आमद-ए ! आमद-ए-रमज़ान !
आमद-ए ! आमद-ए ! आमद-ए-रमज़ान !

चारों तरफ़ है रौशनी, रमज़ान की आमद हुई
खिलने लगी दिल की कली, रमज़ान की आमद हुई

आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !
आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !

दुनिया के पीछे मत पड़ो, रोज़े रखो, मस्जिद चलो
करते रहो ज़िक्र-ए-नबी, रमज़ान की आमद हुई

खिलने लगी दिल की कली, रमज़ान की आमद हुई

आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !
आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !

जो माँगना है माँग लो, रहमत ख़ुदा की लूट लो
होगी दु’आ पूरी सभी, रमज़ान की आमद हुई

होंटों पे है क़ुरआँ सजा, हर कोई है नग़्मा-सरा
दिल से सदा निकली यही, रमज़ान की आमद हुई

आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !
आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !

माँ-बाप की ‘इज़्ज़त करो, इन से दु’आएँ ख़ूब लो
इस में है आक़ा की ख़ुशी, रमज़ान की आमद हुई

आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !
आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !

इफ़्तार-ओ-सहरी का मज़ा, फ़ज़्ल-ए-ख़ुदा से है मिला
मौला ने दी फिर ये ख़ुशी, रमज़ान की आमद हुई

आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !
आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !

फैला ‘अजब रंग-ए-वफ़ा, हर सम्त रहमत की फ़ज़ा
हर लब पे है ये नग़्मगी, रमज़ान की आमद हुई

खिलने लगी दिल की कली, रमज़ान की आमद हुई

आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !
आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !

या रब ! दु’आ मक़्बूल हो, आक़ा को भी मंज़ूर हो
तफ़्सीर की ये शा’इरी, रमज़ान की आमद हुई

खिलने लगी दिल की कली, रमज़ान की आमद हुई

आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !
आमद-ए-रमज़ान है ! आमद-ए-रमज़ान है !

आमद-ए ! आमद-ए ! आमद-ए-रमज़ान !
आमद-ए ! आमद-ए ! आमद-ए-रमज़ान !

शायर:
तफ़्सीर रज़ा अम्जदी

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद अर्सलान शाह क़ादरी

 

aamad-e ! aamad-e ! aamad-e-ramzaan !
aamad-e ! aamad-e ! aamad-e-ramzaan !

chaaro.n taraf hai raushni
ramzaan ki aamad hui
khilne lagi dil ki kali
ramzaan ki aamad hui

aamad-e-ramzaan hai !
aamad-e-ramzaan hai !

duniya ke peechhe mat pa.Do
roze rakho, masjid chalo
karte raho zikr-e-nabi
ramzaan ki aamad hui

khilne lagi dil ki kali
ramzaan ki aamad hui

aamad-e-ramzaan hai !
aamad-e-ramzaan hai !

jo maangna hai maang lo
rahmat KHuda ki looT lo
hogi du’aa poori sabhi
ramzaan ki aamad hui

honTo.n pe hai qur.aa.n saja
har koi hai naGma-sara
dil se sada nikli yahi
ramzaan ki aamad hui

aamad-e-ramzaan hai !
aamad-e-ramzaan hai !

maa.n-baap ki ‘izzat karo
in se du’aae.n KHoob lo
is me.n hai aaqa ki KHushi
ramzaan ki aamad hui

aamad-e-ramzaan hai !
aamad-e-ramzaan hai !

iftaar-o-sahri ka maza
fazl-e-KHuda se hai mila
maula ne di phir ye KHushi
ramzaan ki aamad hui

aamad-e-ramzaan hai !
aamad-e-ramzaan hai !

phaila ‘ajab rang-e-wafa
har samt rahmat ki faza
har lab pe hai ye naGmagi
ramzaan ki aamad hui

khilne lagi dil ki kali
ramzaan ki aamad hui

aamad-e-ramzaan hai !
aamad-e-ramzaan hai !

ya rab ! du’aa maqbool ho
aaqa ko bhi manzoor ho
Tafseer ki ye shaa’iri
ramzaan ki aamad hui

khilne lagi dil ki kali
ramzaan ki aamad hui

aamad-e-ramzaan hai !
aamad-e-ramzaan hai !

aamad-e ! aamad-e ! aamad-e-ramzaan !
aamad-e ! aamad-e ! aamad-e-ramzaan !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *