Chamakne Lagi Hai Dulhan Ban Ke Dargaah Ki Ashraf Mere Aaj Dulha Bane Hain Naat Lyrics

Chamakne Lagi Hai Dulhan Ban Ke Dargaah Ki Ashraf Mere Aaj Dulha Bane Hain Naat Lyrics

 

चमकने लगी है दुल्हन बन के दरगाह
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

हवाएँ मु’अत्तर, फ़ज़ाएँ मु’अत्तर
है गलियों में छिड़का हुआ मुश्क-ओ-‘अंबर
है आया हुआ आज जन्नत से जोड़ा
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

चमकने लगी है दुल्हन बन के दरगाह
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

यहाँ हर मरज़ की दवा भी मिलेगी
यहाँ हर मरज़ से शिफ़ा भी मिलेगी
यहाँ शाह-ए-सिमनाँ का है प्यारा रोज़ा
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

चमकने लगी है दुल्हन बन के दरगाह
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

यहीं पर नबी हैं, यहीं पर ‘अली हैं
यहीं पर हसन हैं, यहीं पंज-तन हैं
लुटाने हुसैन आए कर्बल से सदक़ा
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

चमकने लगी है दुल्हन बन के दरगाह
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

वो ‘औन-ओ-मुहम्मद, वो ‘अब्बास-ओ-अकबर
वो बीमार ‘आबिद, वो नन्हें से असग़र
यहीं पर है कर्ब-ओ-बला आज सारा
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

चमकने लगी है दुल्हन बन के दरगाह
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

यहीं ग़ौस-ए-आ’ज़म भी जल्वा-नुमा हैं
यक़ीनन यहीं आज ख़्वाजा पिया हैं
है पंडवा से आए हुए शाह-ए-पंडवा
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

चमकने लगी है दुल्हन बन के दरगाह
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

यहीं ग़ौस-ए-आ’ज़म, यहीं शाह-ए-मीराँ
यहीं पर हैं ख़्वाजा, यहीं पर हैं साबिर
है पंडवा से आए हुए शाह-ए-पंडवा
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

चमकने लगी है दुल्हन बन के दरगाह
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

चले आएँ सारे ग़रीब-ओ-तवंगर
लुटाते हैं भर भर के मख़्दूम, जामी !
है मौका हसीं भर लें सब अपना कासा
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

चमकने लगी है दुल्हन बन के दरगाह
कि अशरफ़ मेरे आज दूल्हा बने हैं

शायर:
सय्यिद जामी अशरफ़

ना’त-ख़्वाँ:
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी

 

chamakne lagi hai dulhan ban ke dargaah
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

hawaae.n mu’attar, fazaae.n mu’attar
hai galiyo.n me.n chhi.Dka huaa mushk-o-ambar
hai aaya huaa aaj jannat se jo.Da
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

chamakne lagi hai dulhan ban ke dargaah
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

yahaa.n har maraz ki dawa bhi milegi
yahaa.n har maraz se shifa bhi milegi
yahaa.n shaah-e-simnaa.n ka hai pyaara roza
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

chamakne lagi hai dulhan ban ke dargaah
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

yahi.n par nabi hai.n, yahi.n par ‘ali hai.n
yahi.n par hasan hai.n, yahi.n panj-tan hai.n
luTaane husain aae karbal se sadqa
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

chamakne lagi hai dulhan ban ke dargaah
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

wo ‘aun-o-muhammad, wo ‘abbaas-o-akbar
wo beemaar ‘aabid, wo nanhe.n se asGar
yahi.n par hai karb-o-bala aaj saara
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

chamakne lagi hai dulhan ban ke dargaah
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

yahi.n Gaus-e-aa’zam bhi jalwa-numa hai.n
yaqeenan yahi.n aaj KHwaja piya hai.n
hai pandwa se aae hue shaah-e-pandwa
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

chamakne lagi hai dulhan ban ke dargaah
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

yahi.n Gaus-e-aa’zam, yahi.n shaah-e-meeraa.n
yahi.n par hai.n KHwaja, yahi.n par hai.n saabir
hai pandwa se aae hue shaah-e-pandwa
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

chamakne lagi hai dulhan ban ke dargaah
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

chale aae.n saare Gareeb-o-tawangar
luTaate hai.n bhar bhar ke maKHdoom, Jaami !
hai mauka hasee.n bhar le.n sab apna kaasa
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

chamakne lagi hai dulhan ban ke dargaah
ki ashraf mere aaj dulha bane hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *