Chaman Chaman Ki DilKashi Nabi Nabi Nabi Nabi Naat Lyrics

Chaman Chaman Ki DilKashi Nabi Nabi Nabi Nabi Naat Lyrics

 

 

चमन चमन की दिल-कशी, गुलों की है वो ताज़गी
है चाँद जिन से शबनमी, वो कहकशाँ की रौशनी
फ़ज़ाओं की वो रागनी, हवाओं की वो नग़्मगी
है कितना प्यारा नाम भी, नबी नबी नबी नबी

ये आमद-ए-बहार है, वो नूर की क़तार है
फ़ज़ा भी ख़ुशगवार है, हवा भी मुश्कबार है
हवा से मैंने जब कहा, ये कौन आ गया बता
हवा पुकारती चली, नबी नबी नबी नबी

ज़मीं बनी ज़माँ बने, मकीं बने मकाँ बने
चुनी बने चुना बने, वो वज्ह-ए-कुन-फ़काँ बने
कहा जो मैंने, ए ख़ुदा ! ये किस के सदक़े में बना ?
तो रब ने भी कहा यही, नबी नबी नबी नबी

जो सिदरा पर नबी गए, तो जिब्रईल बोले ये
ज़रा गया उधर परे, तो जल पढ़ेंगे पर मेरे
नबी ही आगे चल पड़े, वो सिदरा से निकल पड़े
ज़मीं पुकारती रही, नबी नबी नबी नबी

वो हुस्न-ए-ला-ज़वाल है, वो ‘इश्क़ बे-मिसाल है
जो चर्ख़ का हिलाल है, नबी का वो बिलाल है
बदन सुलगती रेत पर, कि थरथरा उठे हजर
ज़बाँ पे था मगर यही, नबी नबी नबी नबी

चले जो क़त्ल को ‘उमर, कहा किसी ने रोक कर
कहाँ चले हो और किधर, मिज़ाज क्यूँ है ‘अर्श पर
ज़रा बहन की लो ख़बर, फ़िदा है वो रसूल पर
वो कह रही है हर घड़ी, नबी नबी नबी नबी

‘उमर चले बहन के घर, ग़ज़ब में सोच सोच कर
उड़ाएँगे हम उन का सर, जो हैं नबी के दीन पर
सुना है जब क़ुरआन को, ख़ुदा के उस बयान को
‘उमर ने भी कहा यही, नबी नबी नबी नबी

वो हिजरत-ए-रसूल है, फ़ज़ा-ए-दिल-मलूल है
क़दम क़दम बबूल है, क़ज़ा की ज़द में फूल है
‘अली की एक ज़ात है, कि तेग़ पर हयात है
‘अली के दिल में बस यही, नबी नबी नबी नबी

वो ‘इश्क़ का हुसूल है, वो सुन्नियत का फूल है
वो ऐसा बा-उसूल है कि ‘आशिक़-ए-रसूल है
रज़ा से मैंने जब कहा, ये शान किस की है ‘अता ?
रज़ा ने दी सदा यही, नबी नबी नबी नबी

रज़ा का ये पयाम है, वज़ीफ़ा-ए-तमाम है
वही तो नेक नाम है, नबी का जो ग़ुलाम है
जो ‘आशिक़-ए-नबी हुवा, ख़ुदा का वो वली हुवा
वही हुवा है जन्नती, नबी नबी नबी नबी

मदीने की ज़मीं रहे, वो रौज़ा-ए-हसीं रहे
मज़ार-ए-शाह-ए-दीं रहे, ग़ुलाम की जबीं रहे
तो रूह निकले झूम के, दर-ए-नबी को चूम के
यही पुकारती हुई, नबी नबी नबी नबी

वो जब समाँ हो हश्र का, हर एक शख़्स जा-ब-जा
अज़ाब में हो मुब्तला, कि यक-ब-यक उठे सदा
सरापा नूर आ गए, मेरे हुज़ूर आ गए
तो कह उठे ये उम्मती, नबी नबी नबी नबी

थकी थकी रुकी रुकी, किसी तरह दबी-लची
हलीमा-बी की ऊँटनी, जो मक्के में पहुँच गई
थे सारे बच्चे जा चुके, जगह वो अपनी पा चुके
बचा था एक आख़री, नबी नबी नबी नबी

वो रूह के तबीब से, असद ! कभी नसीब से
ख़ुदा के उस हबीब से, मिलोगे जब क़रीब से
नबी की एक ज़ात है, जो मंब’-ए-हयात है
मिलेगी दाइमी ख़ुशी, नबी नबी नबी नबी

शायर:
असद इक़बाल कलकत्तवी

ना’त-ख़्वाँ:
असद इक़बाल कलकत्तवी
क़ारी रिज़वान ख़ान

 

chaman chaman ki dil-kashi
gulo.n ki hai wo taazgi
hai chaand jin se shabnami
wo kehkashaa.n ki raushani
fazaao.n ki wo raagni
hawaao.n ki wo naGmagi
hai kitna pyaara naam bhi
nabi nabi nabi nabi

ye aamad-e-bahaar hai
wo noor ki qataar hai
faza bhi KHushgawaar hai
hawa bhi mushkbaar hai
hawa se mai.n ne jab kaha
ye kaun aa gaya bata
hawa pukaarti chali
nabi nabi nabi nabi

zamee.n bani zamaa.n bane
makee.n bane makaa.n bane
chuni bane chuna bane
wo waj.h-e-kun-fakaa.n bane
kaha jo mai.n ne, ai KHuda !
ye kis ke sadqe me.n bana
to rab ne bhi kaha yahi
nabi nabi nabi nabi

jo sidra par nabi gae
to jibraeel bole ye
zara gaya udhar pare
to jal pa.Dhenge par mere
nabi hi aage chal pa.De
wo sidra se nikal pa.De
zamee.n pukaarti rahi
nabi nabi nabi nabi

wo husn-e-laa-zawaal hai
wo ‘ishq be-misaal hai
jo charKH ka hilaal hai
nabi ka wo bilaal hai
badan sulagti ret par
ki tharthara uThe hajar
zabaa.n pe tha magar yahi
nabi nabi nabi nabi

chale jo qatl ko ‘umar
kaha kisi ne rok kar
kahaa.n chale ho aur kidhar
mizaaj kyu.n hai ‘arsh par
zara bahan ki lo KHabar
fida hai wo rasool par
wo kah rahi hai har gha.Di
nabi nabi nabi nabi

‘umar chale bahan ke ghar
gazab me.n soch soch kar
u.Daaenge ham un ka sar
jo hai.n nabi ke deen par
suna hai jab qur.aan ko
KHuda ke us bayaan ko
‘umar ne bhi kaha yahi
nabi nabi nabi nabi

wo hijrat-e-rasool hai
faza-e-dil-malool hai
qadam qadam babool hai
qaza ki zad me.n phool hai
‘ali ki ek zaat hai
ki teG par hayaat hai
‘ali ke dil me.n bas yahi
nabi nabi nabi nabi

wo ‘ishq ka husool hai
wo sunniyat ka phool hai
wo aisa baa-usool hai
ki ‘aashiq-e-rasool hai
raza se mai.n ne jab kaha
ye shaan kis ki hai ‘ata ?
raza ne di sada yahi
nabi nabi nabi nabi

raza ka ye payaam hai
wazeefa-e-tamaam hai
wahi to nek naam hai
nabi ka jo Gulaam hai
jo ‘aashiq-e-nabi huwa
KHuda ka wo wali huwa
wahi huwa hai jannati
nabi nabi nabi nabi

madine ki zamee.n rahe
wo rauza-e-hasee.n rahe
mazaar-e-shaah-e-dee.n rahe
Gulaam ki jabee.n rahe
to rooh nikle jhoom ke
dar-e-nabi ko choom ke
yahi pukaarti hui
nabi nabi nabi nabi

wo jab samaa.n ho hashr ka
har ek shaKHs jaa-ba-jaa
azaab me.n ho mubtala
ki yak-ba-yak uThe sada
saraapa noor aa gae
mere huzoor aa gae
to keh uThe ye ummati
nabi nabi nabi nabi

thaki thaki ruki ruki
kisi tarah dabi-lachi
haleema-bi ki oonTni
jo makke me.n pahunch gai
the saare bachche jaa chuke
jagah wo apni paa chuke
bacha tha ek aaKHri
nabi nabi nabi nabi

wo rooh ke tabeeb se
Asad ! kabhi naseeb se
KHuda ke us habeeb se
miloge jab qareeb se
nabi ki ek zaat hai
jo mamba’-e-hayaat hai
milegi daaimi KHushi
nabi nabi nabi nabi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *