Chamka Jo Sab Se Pahle Wo Taara Kahoon Tujhe Naat Lyrics

Chamka Jo Sab Se Pahle Wo Taara Kahoon Tujhe Naat Lyrics

 

 

Chamka Jo Sab Se Pahle Wo Taara Kahoon Tujhe | Tazmeen of Sarwar Kahun Ki Maalik-o-Maula Kahoon Tujhe

 

 

 

चमका जो सब से पहले वो तारा कहूँ तुझे
वज्ह-ए-वजूद-ए-आदम-ओ-हव्वा कहूँ तुझे
दुनिया कहूँ कि मक़्सद-ए-दुनिया कहूँ तुझे
सरवर कहूँ कि मालिक-ओ-मौला कहूँ तुझे
बाग़-ए-ख़लील का गुल-ए-ज़ेबा कहूँ तुझे

वो बात मैं कहूँगा जो क़ुरआन ने कही
तुझ सा कोई हुआ है न होगा कभी कोई
मैं ही नहीं, ये कहता है हर एक उम्मती
तेरे तो वस्फ़ ‘ऐ़ब-ए-तनाही से हैं बरी
हैराँ हूँ, मेरे शाह ! मैं क्या क्या कहूँ तुझे !

चौदह सौ साल हो गए, जारी हैं कोशिशें
इस रौशनी को रोक नहीं पाई बंदिशें
हर सम्त हो रही हैं अब हिकमत की बारिशें
अल्लाह रे ! तेरे जिस्म-ए-मुनव्वर की ताबिशें
ए जान-ए-जाँ ! मैं जान-ए-तजल्ला कहूँ तुझे

सिद्दीक़ और ‘उमर हैं वफ़ा में तेरी शबीह
जूद-ओ-सख़ा में तेरी ‘अता से ग़नी शबीह
क़ुव्वत के बाब में हुए मौला ‘अली शबीह
ज़हरा है लख़्त-ए-दिल तो हसन है तेरी शबीह
ज़ैनब का या हुसैन का बाबा कहूँ तुझे

मेरे रज़ा ने, नूर ! क़सीदा वो कह दिया
सुनते ही झूम जाते हैं जिस को सभी गदा
मुमकिन था जितना लफ़्ज़ों में, वो कह गए रज़ा
लेकिन रज़ा ने ख़त्म सुख़न इस पे कर दिया
ख़ालिक़ का बंदा, ख़ल्क़ का आक़ा कहूँ तुझे

कलाम:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान

तज़मीन:
ग़ुलाम नूर-ए-मुजस्सम

नात-ख़्वाँ:
ग़ुलाम नूर-ए-मुजस्सम – शुऐब रज़ा वारसी

 

chamka jo sab se pahle wo taara kahu.n tujhe
wajh-e-wajood-e-aadam-o-hawwa kahu.n tujhe
duniya kahu.n ki maqsad-e-duniya kahu.n tujhe
sarwar kahu.n ki maalik-o-maula kahu.n tujhe
baaG-e-KHaleel ka gul-e-zeba kahu.n tujhe

wo baat mai.n kahu.nga jo qur.aan ne kahi
tujh sa koi huaa hai na hoga kabhi koi
mai.n hi nahi.n ye kehta hai har ek ummati
tere to wasf ‘aib-e-tanaahi se hai.n bari
hairaa.n hu.n, mere shaah !
mai.n kya kya kahu.n tujhe

chaudah sau saal ho gae jaari hai.n koshishe.n
is raushni ko rok nahi.n paai bandishe.n
har samt ho rahi hai.n ab hikmat ki baarishe.n
allah re ! tere jism-e-munawwar kee taabishe.n
ai jaan-e-jaa.n ! mai.n jaan-e-tajalla kahu.n tujhe

siddiq aur ‘umar hai.n wafa me.n teri shabeeh
jood-o-saKHa me.n teri ‘ata se Gani shabeeh
quwwat ke baab me.n hue maula ‘ali shabeeh
zahra hai laKHt-e-dil to hasan hai teri shabeeh
zainab ka ya husain ka baaba kahu.n tujhe

mere Raza ne, Noor ! qaseeda wo kah diya
sunte hi jhoom jaate hai.n jis ko sabhi gada
mumkin tha jitna lafzo.n me.n, wo kah gae Raza
lekin Raza ne KHatm suKHan is pe kar diya
KHaliq ka banda, KHalq ka aaqa kahu.n tujhe

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *