Daagh-e-Furqat-e-Tayba Qalb-e-Muzmahil Jaata Naat Lyrics

Daagh-e-Furqat-e-Tayba Qalb-e-Muzmahil Jaata Naat Lyrics

 

दाग़-ए-फ़ुर्क़त-ए-तयबा क़ल्ब-ए-मुज़्महिल जाता
काश ! गुंबद-ए-ख़ज़रा देखने को मिल जाता

मेरा दम निकल जाता उन के आस्ताने पर
उन के आस्ताने की ख़ाक में मैं मिल जाता

मेरे दिल से धुल जाता दाग़-ए-फ़ुर्क़त-ए-तयबा
तयबा में फ़ना हो कर, तयबा में ही मिल जाता

मौत ले के आ जाती ज़िंदगी मदीने में
मौत से गले मिल कर ज़िंदगी में मिल जाता

ख़ुल्द-ज़ार-ए-तयबा का इस तरह सफ़र होता
पीछे पीछे सर जाता, आगे आगे दिल जाता

दिल पे जब किरन पड़ती, उन के सब्ज़-गुंबद की
उस की सब्ज़ रंगत से बाग़ बन के खिल जाता

फ़ुर्क़त-ए-मदीना ने वो दिए मुझे सदमे
कोह पर अगर पड़ते, कोह भी तो हिल जाता

दिल मेरा बिछा होता उन की रह-गुज़ारों में
उन के नक़्श-ए-पा से यूँ मिल के मुस्तक़िल जाता

दिल पे वो क़दम रखते, नक़्श-ए-पा ये दिल बनता
या तो ख़ाक-ए-पा बन कर, पा से मुत्तसिल जाता

वो ख़िराम फ़रमाते मेरे दीदा-ओ-दिल पर
दीदा मैं फ़िदा करता, सदक़े मेरा दिल जाता

चश्म-ए-तर वहाँ बहती, दिल का मुद्द’आ कहती
आह बा-अदब रहती, मूँह मेरा सिल जाता

दर पे दिल झुका होता, इज़्न पा के फिर बढ़ता
हर गुनाह याद आता, दिल ख़जिल ख़जिल जाता

मेरे दिल में बस जाता जल्वा-ज़ार तयबा का
दाग़-ए-फ़ुर्क़त-ए-तयबा फूल बन के खिल जाता

उन के दर पे अख़्तर की हसरतें हुईं पूरी
साइल-ए-दर-ए-अक़्दस कैसे मुनफ़’इल जाता

शायर:
मुहम्मद अख़्तर रज़ा ख़ान बरेलवी

नात-ख़्वाँ:
मुहम्मद ओवैस रज़ा क़ादरी
सय्यिद अब्दुल वासी’क़ादरी

 

daaG-e-furqat-e-tayba qalb-e-muzmahil jaata
kaash ! gumbad-e-KHazra dekhne ko mil jaata

mera dam nikal jaata un ke aastaane par
un ke aastaane ki KHaak me.n mai.n mil jaata

mere dil se dhul jaata daaG-e-furqat-e-tayba
tayba me.n fana ho kar, tayba me.n hi mil jaata

maut le ke aa jaati zindagi madine me.n
maut se gale mil kar zindagi me.n mil jaata

KHuld-zaar-e-tayba ka is tarah safar hota
peechhe peechhe sar jaata, aage aage dil jaata

dil pe jab kiran pa.Dti, un ke sabz-gumbad ki
us ki sabz rangat se baaG ban ke khil jaata

furqat-e-madina ne wo diye mujhe sadme
koh par agar pa.Dte, koh bhi to hil jaata

dil mera bichha hota un ki rah-guzaaro.n me.n
un ke naqsh-e-pa se yu.n mil ke mustaqil jaata

dil pe wo qadam rakhte, naqsh-e-paa ye dil banta
ya to KHaak-e-paa ban kar, paa se muttasil jaata

wo KHiraam farmaate mere deeda-o-dil par
deeda mai.n fida karta, sadqe mera dil jaata

chashm-e-tar wahaa.n bahti, dil ka mudd’aa kahti
aah baa-adab rahti, moo.nh mera sil jaata

dar pe dil jhuka hota, izn paa ke phir ba.Dhta
har gunaah yaad aata, dil KHazil KHazil jaata

mere dil me.n bas jaata jalwa-zaar tayba ka
daaG-e-furqat-e-tayba phool ban ke khil jaata

un ke dar pe aKHtar ki hasrate.n hui.n poori
saail-e-dar-e-aqdas kaise munfa’il jaata

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *