Darte Nahin Kisi Se Kabhi Faatima Ke Laal Naat Lyrics

Darte Nahin Kisi Se Kabhi Faatima Ke Laal Naat Lyrics

 

 

डरते नहीं किसी से कभी फ़ातिमा के ला’ल
कैसे डरें ! हैं ख़ून-ए-‘अली, फ़ातिमा के ला’ल

इक दूध पीते बच्चे को क़ुर्बान कर दिया
यूँ तीर खाया, तीर को हैरान कर दिया
तारीख़ लिख गए हैं नई फ़ातिमा के ला’ल
डरते नहीं किसी से कभी फ़ातिमा के ला’ल

बोले हुसैन देखना ये मुझ को है यक़ीं
नाना के मेरे दीन का बिगड़ेगा कुछ नहीं
ए कूफ़ियो ! ज़िंदा हैं अभी फ़ातिमा के ला’ल
डरते नहीं किसी से कभी फ़ातिमा के ला’ल

पाँव लरज़ रहे थे हर इक पहलवान के
लाले पड़े थे फ़ौज-ए-यज़ीदी की जान के
लड़ते थे ऐसे शेर-ए-‘अली, फ़ातिमा के ला’ल
डरते नहीं किसी से कभी फ़ातिमा के ला’ल

मरते नहीं शहीद कभी सच है, ए ताहिर !
मुर्दा कहेगा जो उन्हें, हो जाएगा काफ़िर
माँगो मदद, करेंगे अभी फ़ातिमा के ला’ल
डरते नहीं किसी से कभी फ़ातिमा के ला’ल

शायर:
ताहिर रज़ा रामपुरी

ना’त-ख़्वाँ:
ताहिर रज़ा रामपुरी

 

Darte nahi.n kisi se kabhi faatima ke laa’l
kaise dare.n ! hai.n KHoon-e-‘ali, faatima ke laa’l

ik doodh peete bachche ko qurbaan kar diya
yu.n teer khaaya, teer ko hairaan kar diya
taareeKH likh gae hai.n na.ee faatima ke laa’l
Darte nahi.n kisi se kabhi faatima ke laa’l

bole husain dekhna ye mujh ko hai yaqee.n
naana ke mere deen ka big.Dega kuchh nahi.n
ai koofiyo ! zinda hai.n abhi faatima ke laa’l
Darte nahi.n kisi se kabhi faatima ke laa’l

paanw laraz rahe the har ik pahalwaan ke
laale pa.De the fauj-e-yazeedi ki jaan ke
la.Dte the aise sher-e-‘ali, faatima ke laa’l
Darte nahi.n kisi se kabhi faatima ke laa’l

marte nahi.n shaheed kabhi sach hai, ai Taahir !
murda kahega jo unhe.n, ho jaaega kaafir
maango madad, karenge abhi faatima ke laa’l
Darte nahi.n kisi se kabhi faatima ke laa’l

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *