Dil Ki Duniya Ko Sajao Aaqa Naat Lyrics

Dil Ki Duniya Ko Sajao Aaqa Naat Lyrics

 

दिल की दुनिया को सजाओ, आक़ा !
अपनी उल्फ़त में जिलाओ, आक़ा !

हुब्ब-ए-दुनिया से बचाना मुझ को
मुझ को अपना ही बनाओ, आक़ा !

शौक़-ए-दीदार में सोऊँ जिस शब
अपना दीदार कराओ, आक़ा !

फ़िक्र-ए-दुनिया में न आँसू निकले
अपनी उल्फ़त में रुलाओ, आक़ा !

जितने मोमिन हैं परेशाँ, शाहा !
सब की बिगड़ी को बनाओ, आक़ा !

आख़री दम भी अदा हो सुन्नत
पीर के दिन जो क़ज़ा हो, आक़ा !

दिल तड़पता है हुज़ूरी को, हुज़ूर !
सदक़े मुर्शिद के बुलाओ, आक़ा !

मुझ को फिर दुश्मनों ने घेरा है
अपने दामन में छुपाओ, आक़ा !

शाकिर-ए-रज़वी है ‘आसी, शाहा !
मुज़्दा बख़्शिश का सुनाओ, आक़ा !

शायर:
मौलाना मुहम्मद शाकिर नूरी

ना’त-ख़्वाँ:
क़ारी रिज़वान ख़ान
शाहाना शौकत शैख़

 

dil ki duniya ko sajaao, aaqa !
apni ulfat me.n jilaao, aaqa !

hubb-e-duniya se bachaana mujh ko
mujh ko apna hi banaao, aaqa !

shauq-e-deedaar me.n sou.n jis shab
apna deedaar karaao, aaqa !

fikr-e-duniya me.n na aansoo nikle
apni ulfat me.n rulaao, aaqa !

jitne momin hai.n pareshaa.n, shaaha !
sab ki big.Di ko banaao, aaqa !

aaKHri dam bhi ada ho sunnat
peer ke din jo qaza ho, aaqa !

dil ta.Dapta hai huzoori ko, huzoor !
sadqe murshid ke bulaao, aaqa !

mujh ko phir dushmano.n ne ghera hai
apne daaman me.n chhupaao, aaqa !

Shaakir-e-razavi hai ‘aasi, shaaha !
muzda baKHshish ka sunaao, aaqa !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *