Dil Mera Tadapta Hai Aankhen Hain Ye Nam Aaqa Naat Lyrics

Dil Mera Tadapta Hai Aankhen Hain Ye Nam Aaqa Naat Lyrics

 

दिल मेरा तड़पता है, आँखें हैं ये नम, आक़ा !
ए काश ! कि देखूँ मैं इक बार हरम, आक़ा !

ता-‘उम्र मैं ढूँडूँगा ना’लैन-ए-शह-ए-बतहा
इक बार अगर रख दें सीने पे क़दम, आक़ा !

किए चाँद के दो टुकड़े, सूरज भी पलट आया
वल्लाह ! इशारों में रखते हैं वो दम आक़ा

बू-बक्र की एड़ी पर लु’आब-ए-दहन रख कर
कर देते हैं ज़ख़्मों से सब दूर अलम आक़ा

घर आमिना बीबी के जब आप हुए पैदा
ख़ुद करने तवाफ़ आया उस घर को हरम, आक़ा !

शायर:
सुफ़ियान प्रतापगढ़ी

ना’त-ख़्वाँ:
सुफ़ियान प्रतापगढ़ी

 

dil mera ta.Dapta hai, aankhe.n hai.n ye nam, aaqa !
ai kaash ! ki dekhu.n mai.n ik baar haram, aaqa !

taa-‘umr mai.n DhoonDoonga naa’lain-e-shah-e-bat.ha
ik baar agar rakh de.n seene pe qadam, aaqa !

kiye chaand ke do Tuk.De, sooraj bhi palaT aaya
wallah ! ishaaro.n me.n rakhte hai.n wo dam aaqa

bu-bakr ki e.Di par lu’aab-e-dahan rakh kar
kar dete hai.n zaKHmo.n se sab door alam aaqa

ghar aamina bibi ke jab aap hue paida
KHud karne tawaaf aaya us ghar ko haram, aaqa !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *