Door Ai Dil Rahein Madine Se, Maut Behtar Hai Aise Jeene Se Naat Lyrics

Door Ai Dil Rahein Madine Se, Maut Behtar Hai Aise Jeene Se Naat Lyrics

 

दूर, ए दिल ! रहें मदीने से
मौत बेहतर है ऐसे जीने से

उन से मेरा सलाम कह देना
जा के तू, ए सबा ! क़रीने से

हर गुल-ए-गुल्सिताँ मो’अत्तर है
जान-ए-गुलज़ार के पसीने से

यूँ चमकते हैं ज़र्रे तयबा के
जैसे बिखरे हुए नगीने से

ज़िक्र-ए-सरकार करते हैं मोमिन
कोई मर जाए जल के कीने से

बारगाह-ए-ख़ुदा में क्या पहुँचे !
गिर गया जो नबी के ज़ीने से

पी जिए चश्म-ए-नाज़ से उन की
मय-कशों का भला है पीने से

उस तजल्ली के सामने, अख़्तर !
गुल को आने लगे पसीने से

शायर:
अख़्तर रज़ा ख़ान

ना’त-ख़्वाँ:
असद रज़ा अत्तारी
सय्यिद अब्दुल वसी रज़वी

 

door, ai dil ! rahe.n madine se
maut behtar hai aise jeene se

un se mera salaam keh dena
jaa ke tu, ai saba ! qareene se

har gul-e-gulsitaa.n mo’attar hai
jaan-e-gulzaar ke paseene se

yu.n chamakte hai.n zarre tayba ke
jaise bikhre hue nageene se

zikr-e-sarkaar karte hai.n momin
koi mar jaae jal ke keene se

baargaah-e-KHuda me.n kya pahunche !
gir gaya jo nabi ke zeene se

pee jie chashm-e-naaz se un ki
mai-kasho.n ka bhala hai peene se

us tajalli ke saamne, aKHtar !
gul ko aane lage paseene se

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *