Duniya Mein Goonjta Hai Taraana Husain Ka Naat Lyrics

Duniya Mein Goonjta Hai Taraana Husain Ka Naat Lyrics

Duniya Mein Goonjta Hai Taraana Husain Ka | Hamaare Hain Husain

हुसैन ! या हुसैन !
हुसैन ! या हुसैन !

दिल से पुकारो हुसैन
दिल से पुकारो हुसैन

इंसान को बेदार तो हो लेने दो
हर क़ौम पुकारेगी हमारे हैं हुसैन

हमारे हैं हुसैन, हमारे हैं हुसैन

दुनिया में गूँजता है तराना हुसैन का
इंसानियत को काफ़ी है ख़ुत्बा हुसैन का

शब्बीर ! तेरे काँधों पे दीन-ए-रसूल है
इस्लाम को है अब भी सहारा हुसैन का

हमारे हैं हुसैन, हमारे हैं हुसैन

तलवार है हुसैन की
ललकार है हुसैन की

सरकार का ‘अमामा है सर पर हुसैन के
और हम्ज़ा की सिपर है बदन पर हुसैन के

हाथों में लिए आ गया शब्बीर ज़ुल्फ़िक़ार
ये शेर है ‘अली का, पलट कर करेगा वार

ये फातिमा के लाल का परचम है अल-अमान
अल्लाह रे ! जलाल का ‘आलम है अल-अमान

किस क़हर का है सामना, चमकी है ज़ुल्फ़िक़ार
दो-नीम करने सूरमा चमकी है ज़ुल्फ़िक़ार

खा खा गई सफ़ों की सफ़ें आज ज़ुल्फ़िक़ार
किस की मजाल है कि करे सामने से वार

देखो, यज़ीदियो ! ज़रा शब्बीर का मिज़ाज
तुम सारे मारे जाओगे लड़ते रहे जो आज

लेकिन रज़ा-ए-मौला में झुकता है अब हुसैन
सज्दे में सर झुकाने को रुकता है अब हुसैन

दीन-ए-मतीन के लिए सब कुछ लुटा दिया
मेरे हुसैन ! तुम ने घराना लुटा दिया

कर्ब-ओ-बला का देख लो फ़ातेह हुसैन है
इस्लाम ज़िंदा है तो फिर ज़िंदा हुसैन है

हुसैन ज़िंदाबाद ! हुसैन ज़िंदाबाद !

हमारे हैं हुसैन, हमारे हैं हुसैन

दुनिया में गूँजता है तराना हुसैन का
इंसानियत को काफ़ी है ख़ुत्बा हुसैन का

जज़्बात ग़ाज़ियों के मरेंगे नहीं कभी
ज़िंदा हमें जो रखता है जज़्बा हुसैन का

हमारे हैं हुसैन, हमारे हैं हुसैन

दुनिया में गूँजता है तराना हुसैन का
इंसानियत को काफ़ी है ख़ुत्बा हुसैन का

न आसमाँ, न किसी शाँ-नशीं से निकलेगा
‘अली के ‘इश्क़ का सूरज जबीं से निकलेगा

जहाँ जहाँ पे भी पहरे बिठाए जाएँगे
जुलूस-ए-‘इश्क़-ए-हुसैनी वहीं से निकलेगा

ये कर्बला है देख लो इसे, जहाँ वालो !
यज़ीदियत का जनाज़ा यहीं से निकलेगा

कर्ब-ओ-बला से उट्ठेगी मय्यत यज़ीद की
लेकिन हमेशा चमकेगा रौज़ा हुसैन का

हमारे हैं हुसैन, हमारे हैं हुसैन

कोई अता पता नहीं नस्ल-ए-यज़ीद का
सारे जहान में है घराना हुसैन का

हमारे हैं हुसैन, हमारे हैं हुसैन

तुझ को हमेशा देगी उजागर नबी की आल
तू कामियाब हो गया, बंदा हुसैन का

हमारे हैं हुसैन, हमारे हैं हुसैन

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी और हाफ़िज़ अहसन क़ादरी


husain ! ya husain !
husain ! ya husain !

dil se pukaaro husain
dil se pukaaro husain

insaan ko bedaar to ho lene do
har qaum pukaaregi hamaare hai.n husain

hamaare hai.n husain
hamaare hai.n husain

duniya me.n goonjta hai taraana husain ka
insaaniyat ko kaafi hai KHutba husain ka

shabbir ! tere kaandho.n pe deen-e-rasool hai
islaam ko hai ab bhi sahaara husain ka

hamaare hai.n husain
hamaare hai.n husain

talwaar hai husain ki
lalkaar hai husain ki

sarkaar ka ‘amaama hai sar par husain ke
aur hamza ki sipar hai badan par husain ke

haatho.n me.n liye aa gaya shabbir zulfiqaar
ye sher hai ‘ali ka, palaT kar karega waar

ye faatima ke laal ka parcham hai al-amaan
allah re ! jalaal ka ‘aalam hai al-amaan

kis qahar ka hai saamna, chamki hai zulfiqaar
do-neem karne soorma, chamki hai zulfiqaar

kha kha gai safo.n ki safe.n aaj zulfiqaar
kis ki majaal hai ki kare saamne se waar

dekho, yazeediyo ! zara shabbir ka mizaaj
tum saare maare jaaoge la.Dte rahe jo aaj

lekin raza-e-maula me.n jhukta hai ab husain
sajde me.n sar jhukaane ko rukta hai ab husain

deen-e-mateen ke liye sab kuchh luTa diya
mere husain ! tum ne gharaana luTa diya

karb-o-bala ka dekh lo faateh husain hai
islaam zinda hai to phir zinda husain hai

husain zindaabaad ! husain zindaabaad !

hamaare hai.n husain
hamaare hai.n husain

duniya me.n goonjta hai taraana husain ka
insaaniyat ko kaafi hai KHutba husain ka

jazbaat Gaaziyo.n ke mare.nge nahi.n kabhi
zinda hame.n jo rakhta hai jazba husain ka

hamaare hai.n husain
hamaare hai.n husain

duniya me.n goonjta hai taraana husain ka
insaaniyat ko kaafi hai KHutba husain ka

na aasmaa.n, na kisi shaa.n-nashee.n se niklega
‘ali ke ‘ishq ka sooraj jabee.n se niklega

ye karbala hai dekh lo ise, jahaa.n waalo !
yazeediyat ka janaaza yahi.n se niklega

karb-o-bala se uThThegi mayyat yazeed ki
lekin hamesha chamkega rauza husain ka

hamaare hai.n husain
hamaare hai.n husain

koi ata pata nahi.n nasl-e-yazeed ka
saare jahaan me.n hai gharaana husain ka

hamaare hai.n husain
hamaare hai.n husain

tujh ko hamesha degi Ujaagar nabi ki aal
tu kaamiyaab ho gaya, banda husain ka

hamaare hai.n husain
hamaare hai.n husain

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *