Furqat-e-Tayba Ki Wahshat Dil Se Jaae Khair Se Naat Lyrics

Furqat-e-Tayba Ki Wahshat Dil Se Jaae Khair Se Naat Lyrics

 

 

फ़ुर्क़त-ए-तयबा की वहशत दिल से जाए ख़ैर से
मैं मदीने को चलूँ वो दिन फिर आए ख़ैर से

दिल में हसरत कोई बाक़ी रह न जाए ख़ैर से
राह-ए-तयबा में मुझे यूँ मौत आए ख़ैर से

मेरे दिन फिर जाएँ, या रब ! शब वो आए ख़ैर से
दिल में जब माह-ए-मदीना घर बनाए ख़ैर से

रात मेरी दिन बने उन की लिक़ा-ए-ख़ैर से
क़ब्र में जब उन की तल’अत जगमगाए ख़ैर से

हैं ग़नी के दर पे हम बिस्तर जमाए ख़ैर से
ख़ैर के तालिब कहाँ जाएँगे जाए ख़ैर से

मर के भी दिल से न जाए उल्फ़त-ए-बाग़-ए-नबी
ख़ुल्द में भी बाग़-ए-जानाँ याद आए ख़ैर से

इस तरफ़ भी दो क़दम जल्वे ख़िराम-ए-नाज़ के
रह-गुज़र में हम भी हैं आँखें बिछाए ख़ैर से

इंतिज़ार उन से कहे है ब-ज़बान-ए-चश्म-ए-नम
कब मदीने मैं चलूँ, कब तू बुलाए ख़ैर से

ज़िंदाबाद, ए आरज़ू-ए-बाग़-ए-तयबा ! ज़िंदाबाद
तेरे दम से हैं ज़माने के सताए ख़ैर से

नज्दियों की चीरा-दस्ती, या इलाही ! ता-ब-के
ये बला-ए-नज्दिया तयबा से जाए ख़ैर से

गोश-बर-आवाज़ हों क़ुदसी भी उस के गीत पर
बाग़-ए-तयबा में जब अख़्तर गुनगुनाए ख़ैर से

शायर:
मुहम्मद अख़्तर रज़ा ख़ान

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
अल्लामा हाफ़िज़ बिलाल क़ादरी

 

furqat-e-tayba ki wahshat dil se jaae KHair se
mai.n madine chalu.n wo din phir aae KHair se

dil me.n hasrat koi baaqi rah na jaae KHair se
raah-e-tayba me.n mujhe yu.n maut aae KHair se

mere din phir jaae.n, ya rab ! shab wo aae KHair se
dil me.n jab maah-e-madina ghar banaae KHair se

raat meri din bane un ki liqa-e-KHair se
qabr me.n jab un ki tal’at jagmagaae KHair se

hai.n Gani ke dar pe ham bistar jamaae KHair se
KHair ke taalib kahaa.n jaaenge jaae KHair se

mar ke bhi dil se na jaae ulfat-e-baaG-e-nabi
KHuld me.n bhi baaG-e-jaanaa.n yaad aae KHair se

is taraf bhi do qadam jalwe KHiraam-e-naaz ke
rah-guzar me.n ham bhi hai.n aankhe.n bichhaae KHair se

intizaar un se kahe hai ba-zabaan-e-chashm-e-nam
kab madine mai.n chalu.n, kab tu bulaae KHair se

zindaabaad, ai aarzoo-e-baaG-e-tayba ! zindaabaad
tere dam se hai.n zamaane me.n sataae KHair se

najdiyo.n ki cheera-dasti, ya ilaahi ! taa-ba-ke
ye bala-e-najdiya tayba se jaae KHair se

gosh-bar-aawaaz ho.n qudsi bhi us ke geet par
baaG-e-tayba me.n jab aKHtar gungunaae KHair se

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *