Ghaus-e-Azam Jilani Ziya Yazdani Naat Lyrics

Ghaus-e-Azam Jilani Ziya Yazdani Naat Lyrics

 

 

ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !
ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

तुम ज़हरा के दुलारे हो, मौला ‘अली के प्यारे हो
ऐ महबूब-ए-सुब्हानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !
ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

आप से करता हूँ फ़रियाद, कीजे मदद शाह-ए-बग़दाद
दूर हो मेरी परेशानी, ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !
ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

दिल बीमार है अच्छा हो, काम अधूरा पूरा हो
मुश्किल में हो आसानी, ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !
ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

हम भी हैं पीने को बेताब, तेरे मय-ख़ाने की शराब
नफ़्स करे ना मनमानी, ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !
ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

इस ‘इज़्ज़त-अफ़ज़ाई पर, तेरे दर की गदाई पर
रश्क करे है सुल्तानी, ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !
ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

क्यूँ-कर है मग़्मूम, ज़िया !, पीर तेरे हैं ग़ौस पिया
करते हैं तेरी निगहबानी, ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !
ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी ! ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

शायर:
ज़िया यज़्दानी

ना’त-ख़्वाँ:
ज़िया यज़्दानी

 

Gaus-e-aa’zam jeelaani !
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

tum zahra ke dulaare ho
maula ‘ali ke pyaare ho
ai mahboob-e-sub.haani
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

Gaus-e-aa’zam jeelaani !
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

aap se karta hu.n fariyaad
keeje madad shaah-e-baGdaad
door ho meri pareshaani
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

Gaus-e-aa’zam jeelaani !
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

dil beemaar hai achchha ho
kaam adhoora poora ho
mushkil me.n ho aasaani
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

Gaus-e-aa’zam jeelaani !
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

ham bhi hai.n peene ko betaab
tere mai-KHaane ki sharaab
nafs kare na manmaani
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

Gaus-e-aa’zam jeelaani !
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

is ‘izzat-afzaai par
tere dar ki gadaai par
rashk kare hai sultaani
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

Gaus-e-aa’zam jeelaani !
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

kyu.n-kar hai maGmoom, Ziya !
peer tere hai.n Gaus piya
karte hai.n teri nigahbaani
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

Gaus-e-aa’zam jeelaani !
Gaus-e-aa’zam jeelaani !

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *