Ghaus-e-Azam Samne Aa Jaiye Naat Lyrics

Ghaus-e-Azam Samne Aa Jaiye Naat Lyrics

 

 

Ghaus-e-Azam Samne Aa Jaiye Naat Lyrics | Ghous-e-Azam Samne Aa Jaiye

 

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म को बना कर अपना पीर, दस्त-गीर
ला-तख़फ़ की छाओं में आ जाइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

दे रहा है इक सदा मुनकर-नकीर, दार-ओ-गीर
‘आशिक़ान-ए-ग़ौस मत घबराइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

शाह बन ने का अगर अरमान है, यान है
ग़ौस-ए-आ’ज़म के गदा बन जाइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

जोड़ कर रिश्ता मुहय्युद्दीं के साथ, पी के साथ
साथ बख़्शिश की सनद भी पाइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

एक दर उन का मिला तो सब मिला, रब मिला
दर-ब-दर की ठोकरें क्यूँ खाइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

क़ादरी बन ने का मतलब है यही, हाँ यही
नाम अपना ख़ुल्द में लिखवाइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

क़ादरी मय-ख़ाना हर-दम है खुला, बरमला
पीजिए औरों को भी पिलवाइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

मिल गया है ग़ौस का ख़ान-ए-करम, क्या है ग़म
उन के टुकड़े, उन का सदक़ा खाइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

ऐ जमाली ! ग़ौस-ए-आ’ज़म हैं तो बस, पेश-ओ-पस
सरकशान-ए-वक़्त को बतलाइए, आइए

ग़ौस-ए-आ’ज़म ! सामने आ जाइए, आइए
बे-सुकूनी की दवा फ़रमाइए, आइए

शायर:
मख़्दूम जमाली

ना’त-ख़्वाँ:
महमूद रज़ा क़ादरी
हस्सान रज़ा क़ादरी

 

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ko bana kar apna peer, dast-geer
laa-taKHaf ki chhaao.n me.n aa jaaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

de raha hai ik sada munkar-nakeer, daar-o-geer
‘aashiqaan-e-Gaus mat ghabraaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

shaah ban ne ka agar armaan hai, yaan hai
Gaus-e-aa’zam ke gada ban jaaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

jo.D kar rishta muhayyuddi.n ke saath, pee ke saath
saath baKHshish ki sanad bhi paaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

ek dar un ka mila to sab mila, rab mila
dar-ba-dar ki Thokre.n kyu.n khaaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

qaadri ban ne ka matlab hai yahi, haa.n yahi
naam apna KHuld me.n likhwaaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

qaadri mai-KHaana har-dam hai khula, barmala
pijiye auro.n ko bhi pilwaaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

mil gaya hai Gaus ka KHaan-e-karam, kya hai Gam
un ke Tuk.De, un ka sadqa khaaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

ai Jamaali ! Gaus-e-aa’zam hai.n to bas, pesh-o-pas
sarkashaan-e-waqt ko batlaaiye, aaiye

Gaus-e-aa’zam ! saamne aa jaaiye, aaiye
be-sukooni ki dawa farmaaiye, aaiye

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *