Ghaus-ul-wara Ki Mehfil Jo Bhi Saja Rahe Hain Naat Lyrics

Ghaus-ul-wara Ki Mehfil Jo Bhi Saja Rahe Hain Naat Lyrics

 

 

 

Ghaus-ul-wara Ki Mehfil Jo Bhi Saja Rahe Hain Naat Lyrics | Ghous-ul-wara Ki Mehfil Jo Bhi Saja Rahe Hain

 

ग़ौस-उल-वरा की महफ़िल जो भी सजा रहे हैं
सोया हुआ मुक़द्दर अपना जगा रहे हैं

बग़दाद वाले आक़ा की देखिए करामत
फ़रमा के कुम-बि-इज़्नी, मुर्दे जिला रहे हैं

फ़ैज़-ओ-करम का बादल छाया हुआ है हर-सू
लगता है ग़ौस-ए-आ’ज़म तशरीफ़ ला रहे हैं

पीरान-ए-पीर हैं वो, रौशन-ज़मीर हैं वो
बेटी को इक नज़र में बेटा बना रहे हैं

तुम देखते हो जिन को रेतों से खेलते हैं
दरअस्ल वो ज़मीं पर जन्नत बना रहे हैं

वो बारह-साला डूबी बारातियों की कश्ती
सरकार ग़ौस-ए-आ’ज़म देखो तिरा रहे हैं

ए’लान अब सुना दो तुम, ऐ नदीम फ़ैज़ी !
बख़्शिश का शाह-ए-जीलाँ दरिया बहा रहे हैं

शायर:
नदीम रज़ा फ़ैज़ी

ना’त-ख़्वाँ:
नदीम रज़ा फ़ैज़ी

 

Gaus-ul-wara ki mehfil jo bhi saja rahe hai.n
soya huaa muqaddar apna jaga rahe hai.n

baGdaad waale aaqa ki dekhiye karaamat
farma ke kum-bi-izni, murde jila rahe hai.n

faiz-o-karam ka baadal chhaaya huaa hai har-soo
lagta hai Gaus-e-aa’zam tashreef laa rahe hai.n

peeraan-e-peer hai.n wo, raushan-zameer hai.n wo
beTi ko ik nazar me.n beTa bana rahe hai.n

tum dekhte ho jin ko reto.n se khelte hai.n
dar-asl wo zamee.n par jannat bana rahe hai.n

wo baarah-saala Doobi baaraatiyo.n ki kashti
sarkaar Gaus-e-aa’zam dekho tira rahe hai.n

e’laan ab suna do tum, ai Nadeem Faizi !
baKHshish ka shaah-e-jeelaa.n dariya baha rahe hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *