Haazir Hai Dar-e-Daulat Pe Gada Sarkaar Tawajjoh Farmaaein Naat Lyrics

Haazir Hai Dar-e-Daulat Pe Gada Sarkaar Tawajjoh Farmaaein Naat Lyrics

 

हाज़िर है दर-ए-दौलत पे गदा, सरकार ! तवज्जोह फ़रमाएँ
मोहताज-ए-नज़र है हाल मेरा, सरकार ! तवज्जोह फ़रमाएँ

मैं कर के सितम अपनी जाँ पर, क़ुरआन से “जाऊका” सुन कर
आया हूँ बहुत शर्मिंदा सा, सरकार ! तवज्जोह फ़रमाएँ

मैं कब आने के क़ाबिल था, रहमत ने यहाँ तक पहुँचाया
सरकार पे तन-मन-जान फ़िदा, सरकार ! तवज्जोह फ़रमाएँ

आँसू आँसू है फ़रियादी और ‘अर्ज़-ए-करम हिचकी हिचकी
धड़कन धड़कन देती है सदा, सरकार ! तवज्जोह फ़रमाएँ

इक मैं ही नहीं, पूरी उम्मत, सारी दुनिया, सारी ख़ल्क़त
तकती है रस्ता रहमत का, सरकार ! तवज्जोह फ़रमाएँ

शायर:
हफ़ीज़ ताइब

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
मुहम्मद आसिफ़ अत्तारी
मुहम्मद आरिफ़ अत्तारी

 

haazir hai dar-e-daulat pe gada
sarkaar ! tawajjoh farmaae.n
mohtaaj-e-nazar hai haal mera
sarkaar ! tawajjoh farmaae.n

mai.n kar ke sitam apni jaa.n par
qur.aan se “jaaooka” sun kar
aaya hu.n bahut sharminda saa
sarkaar ! tawajjoh farmaae.n

mai.n kab aane ke qaabil tha
rahmat ne yahaa.n tak pahunchaaya
sarkaar pe tan-man-jaan fida
sarkaar ! tawajjoh farmaae.n

aansoo aansoo hai fariyaadi
aur ‘arz-e-karam hichki hichki
dha.Dkan dh.Dkan deti hai sadaa
sarkaar ! tawajjoh farmaae.n

ik mai.n hi nahi.n, poori ummat
saari duniya, saari KHalqat
takti hai rasta rahmat ka
sarkaar ! tawajjoh farmaae.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *