Hamaara Hai Hamaara Hai Ye Hindustaan Hamaara Hai Naat Lyrics

Hamaara Hai Hamaara Hai Ye Hindustaan Hamaara Hai Naat Lyrics

 

 

हिन्दुस्तान ! हिन्दुस्तान !
हिन्दुस्तान ! हिन्दुस्तान !

बहुत दिलकश, बड़ा ही ख़ुश-नुमा हर इक नज़ारा है
ख़ुदा ने इस ज़मीं पे गोया जन्नत को उतारा है
ज़मीन-ए-हिन्द है ये, जान-ओ-दिल को इस पे वारा है
लहू दे कर इसे सींचा है और इस को निखारा है
वतन का ज़र्रा ज़र्रा जान-ओ-दिल से हम को प्यारा है

हमारा है, हमारा है, ये हिन्दुस्ताँ हमारा है
हमें है फ़ख़्र हम हिन्दी हैं, हिन्दुस्ताँ हमारा है

ये हिन्दू के लिए माता है, इस को महान कहते हैं
मुसलमाँ जुज़-ए-ईमाँ और अपनी जान कहते हैं
ये सिख का दिल है, ‘ईसाई भी अपना मान कहते हैं
इसी चाहत भरी मिट्टी को हिन्दुस्तान कहते हैं
मोहब्बत का निशाँ हिन्दुस्ताँ दिल ने पुकारा है

हमारा है, हमारा है, ये हिन्दुस्ताँ हमारा है
हमें है फ़ख़्र हम हिन्दी हैं, हिन्दुस्ताँ हमारा है

नदी-नाले, हसीं झरने हैं और ऊँचा हिमाला है
यहाँ का गोशा गोशा इक अनोखी शान वाला है
बुलंदी पर जो लहराता है वो परचम निराला है
ये ‘अज़मत का निशाँ अपना तिरंगा सब से आ’ला है
हमारा फ़ख़्र है, अरमान है, आँखों का तारा है

हमारा है, हमारा है, ये हिन्दुस्ताँ हमारा है
हमें है फ़ख़्र हम हिन्दी हैं, हिन्दुस्ताँ हमारा है

मुख़ालिफ़ से कहो खुल के वो कर ले जो भी करना है
यहीं पैदा हुए हैं हम, यहीं पे हम को मरना है
रगों में ख़ून-ए-ईमानी है फिर क्या हम को डरना है
है जब तक जान बाक़ी हक़ की ख़ातिर हम को लड़ना है
वतन पे आँच भी आए हमें ये कब गवारा है

हमारा है, हमारा है, ये हिन्दुस्ताँ हमारा है
हमें है फ़ख़्र हम हिन्दी हैं, हिन्दुस्ताँ हमारा है

फ़ज़ाओं में, हवाओं में यहाँ चाहत ही चाहत है
न दुनिया में कहीं पाओगे ऐसी इस में राहत है
लुटा दें जान-ओ-तन, इस ख़ाक से ऐसी मोहब्बत है
समीं के दिल की हर धड़कन में उल्फ़त है, ‘अक़ीदत है
हमारा हिन्द ही सारे जहाँ में सब से प्यारा है

हमारा है, हमारा है, ये हिन्दुस्ताँ हमारा है
हमें है फ़ख़्र हम हिन्दी हैं, हिन्दुस्ताँ हमारा है

शायर:
शबाना समीन

नशीद-ख़्वाँ:
अब्दुल्लाह राज़ी

 

hindustaan ! hindustaan !
hindustaan ! hindustaan !

bahut dilkash, ba.Da hi KHush-numa har ik nazaara hai
KHuda ne is zamee.n pe goya jannat ko utaara hai
zameen-e-hind hai ye, jaan-o-dil ko is pe waara hai
lahoo de kar ise seencha hai aur is ko nikhaara hai
watan ka zarra zarra jaan-o-dil se ham ko pyaara hai

hamaara hai, hamaara hai, ye hindustaa.n hamaara hai
hame.n hai faKHr ham hindi hai.n, hindustaa.n hamaara hai

ye hindu ke liye maata hai, is ko mahaan kehte hai.n
musalmaa.n juz-e-imaa.n aur apni jaan kehte hai.n
ye sikh ka dil hai, ‘isaai bhi apna maan kehte hai.n
isi chaahat bhari miTTi ko hindustaan kehte hai.n
mohabbat ka nishaa.n hindustaa.n dil ne pukaara hai

hamaara hai, hamaara hai, ye hindustaa.n hamaara hai
hame.n hai faKHr ham hindi hai.n, hindustaa.n hamaara hai

nadi-naale, hasee.n jharne hai.n aur uncha himaala hai
yahaa.n ka gosha gosha ik anokhi shaan waala hai
bulandi par jo lehraata hai wo parcham niraala hai
ye ‘azmat ka nishaa.n apna tiranga sab se aa’la hai
hamaara faKHr hai, armaan hai, aankho.n ka taara hai

hamaara hai, hamaara hai, ye hindustaa.n hamaara hai
hame.n hai faKHr ham hindi hai.n, hindustaa.n hamaara hai

muKHaalif se kaho khul ke wo kar le jo bhi karna hai
yahi.n paida hue hai.n ham, yahi.n pe ham ko marna hai
rago.n me.n KHoon-e-imaani hai phir kya ham ko Darna hai
hai jab tak jaan baaqi haq ki KHaatir ham ko la.Dna hai
watan pe aanch bhi aae hame.n ye kab gawaara hai

hamaara hai, hamaara hai, ye hindustaa.n hamaara hai
hame.n hai faKHr ham hindi hai.n, hindustaa.n hamaara hai

fazaao.n me.n, hawaao.n me.n yahaa.n chaahat hi chaahat hai
na duniya me.n kahi.n paaoge aisi is me.n raahat hai
luTa de.n jaan-o-tan, is KHaak se aisi mohabbat hai
Samee.n ke dil ki har dha.Dkan me.n ulfat hai, ‘aqeedat hai
hamaara hind hi saare jahaa.n me.n sab se pyaara hai

hamaara hai, hamaara hai, ye hindustaa.n hamaara hai
hame.n hai faKHr ham hindi hai.n, hindustaa.n hamaara hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *