Har Sahaabi-e-Nabi Jannati Jannati Naat Lyrics

Har Sahaabi-e-Nabi Jannati Jannati Naat Lyrics

 

 

बू-बक़्र-ओ-उमर जन्नती जन्नती
उस्मान-ओ-अली जन्नती जन्नती
अली-ओ-मुआविया जन्नती जन्नती

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

मेरी जान सहाबा, ईमान सहाबा
पहचान सहाबा, मेरी शान सहाबा

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

यही चार ख़ुलफ़ा हैं मेरा अक़ीदा
अबू-बक़्र-ओ-फ़ारूक़, उस्मां-अली हैं

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

एक नाम चार यारो में शेर-ए-ख़ुदा का है
एक नाम पंजतन में भी मुश्किल-कुशा का है

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

मुआविया के प्यार से अपना बेड़ा पार है
गुनाह बख़्शवाएगी शफ़ाअत-ए-मुआविया

अली-ओ-मुआविया जन्नती जन्नती

मेरी जान सहाबा, ईमान सहाबा
पहचान सहाबा, मेरी शान सहाबा

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

अदब से सहाबा का तुम नाम लेना
ये बख़्शे हुवे हैं, ये हर्फ़-ए-जली है

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

बुरी बात अपनी ज़ुबां से न बोलो
सहाबा की तौहीन बे-हुर्मति है

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

सहाबा के गुस्ताख़ से क्या मरासिम
इन्हें छोड़ो आखिर तुम्हें क्या कमी है

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

ये सब रब से राज़ी, ख़ुदा इन से राज़ी
क़िताब-ए-ख़ुदा में तो लिखा यही है

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

नबी का सहाबी हर इक जन्नती है
यही कहता आया हर इक उम्मती है

सहाबा का शातिम नबी का है शातिम
ये कह दो उजागर हदीस-ए-नबी है

हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती
हर सहाबी-ए-नबी जन्नती जन्नती

बू-बक़्र-ओ-उमर जन्नती जन्नती
उस्मान-ओ-अली जन्नती जन्नती
अली-ओ-मुआविया जन्नती जन्नती

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *