Har Zamaana Mere Husain Ka Hai Naat Lyrics

Har Zamaana Mere Husain Ka Hai Naat Lyrics

 

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

जान माँगो, मैं दिल नहीं दूँगा
दिल ठिकाना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

जिस की ख़ातिर ये काइनात बनी
ऐसा नाना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

जिस पे हर इक दुरूद पढ़ता है
वो घराना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

ये जो का’बा है तुम न समझोगे
घर पुराना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

रात से दिन जो ये निकलता है
मुस्कुराना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

तुम जिसे आसमाँ समझते हो
शामियाना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

कोई पूछे ये दौर किस का है
तुम बताना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

बोलीं ज़हरा ये अश्क दो मुझ को
ये ख़ज़ाना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

उग रहा है जो बा’द-ए-कर्ब-ओ-बला
दाना दाना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

जिस जगह हुर बनाए जाते हैं
कारख़ाना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

जब से घर में सजे है मेरे ‘अलम
आना जाना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

मुझ में, रेहान ! ये श’ऊर जो है
शा’इराना मेरे हुसैन का है

हर ज़माना मेरे हुसैन का है

शायर:
रेहान आज़मी

ना’त-ख़्वाँ:
यश्फ़ीन अजमल शैख़
मुअज़्ज़म अली मिर्ज़ा

 

har zamaana mere husain ka hai

jaan maango, mai.n dil nahi.n doonga
dil thikaana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

jis ki KHaatir ye kaainaat bani
aisa naana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

jis pe har ik durood pa.Dhta hai
wo gharaana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

ye jo kaa’ba hai tum na samjhoge
ghar puraana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

raat se din jo ye nikalta hai
muskuraana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

tum jise aasmaa.n samajhte ho
shaamiyaana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

koi pooche ye daur kis ka hai
tum bataana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

boli.n zahra ye ashk do mujh ko
ye KHazaana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

ug raha hai jo baa’d-e-karb-o-bala
daana daana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

jis jagah hur banaae jaate hai.n
kaarKHaana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

jab se ghar me.n saje hai.n mere ‘alam
aana jaana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

mujh me.n, Rehaan ! ye sha’oor jo hai
shaa’iraana mere husain ka hai

har zamaana mere husain ka hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *