Hum Apne Nabi Paak Se Yun Pyar Karenge Naat Lyrics

Hum Apne Nabi Paak Se Yun Pyar Karenge Naat Lyrics

 

मरहबा मरहबा मरहबा मुस्तफ़ा !
मरहबा मरहबा मरहबा मुस्तफ़ा !

हम अपने नबी पाक से यूँ प्यार करेंगे
हर हाल में सरकार का मीलाद करेंगे

जश्न-ए-विलादत की रौनक़ पे, यारो !
मरते हैं सुन्नी, मरते रहेंगे
अपने नबी की ‘अज़मत का चर्चा
करते हैं सुन्नी, करते रहेंगे

कुछ जलने वाले देख के कहते हैं हमेशा
सरकार की आमद पे लगाते हो क्यूँ पैसा
ये पैसा तो क्या चीज़ है, हम घर भी लुटा दें
कोई नहीं जहान में सरकार के जैसा

हम अपने नबी पाक से यूँ प्यार करेंगे
हर हाल में सरकार का मीलाद करेंगे

मेरे सरकार आए ! मेरे दिलदार आए !
मेरे सरकार आए ! मेरे दिलदार आए !

मेरे नबी आ गए ! मरहबा या मुस्तफ़ा !
प्यारे नबी आ गए ! मरहबा या मुस्तफ़ा !
लजपाल नबी आ गए ! मरहबा या मुस्तफ़ा !
ग़म-ख़्वार नबी आ गए ! मरहबा या मुस्तफ़ा !

साहिब-ए-मे’राज नबी
आसियों की लाज नबी
नबियों के सरताज नबी
कल भी थे और आज नबी
दो जहाँ के राज वाले मेरे नबी आ गए

हर ख़ारजी फ़सादी वतन से भगाएँगे
पढ़ के दुरूद सब को मीलादी बनाएँगे
लाएँगे हम हुज़ूर का इस्लाम तख़्त पर
ला-दीनियत के सारे बुतों को गिराएँगे

हम अपने नबी पाक से यूँ प्यार करेंगे
हर हाल में सरकार का मीलाद करेंगे

तकलीफ़ होती है, तुझे मिर्चें भी लगती हैं
जब बारहवीं पे लाइटों से गलियाँ भी सजती हैं
क्यूँ चिढ़ता है तू देख के झंडों की बहारें
ता’ज़ीम-ए-नबी हो तो सभी अच्छी लगती हैं

हम अपने नबी पाक से यूँ प्यार करेंगे
हर हाल में सरकार का मीलाद करेंगे

निसार तेरी चहल-पहल पर, हज़ारों ‘ईदें, रबी-उल-अव्वल !
सिवाए इब्लीस के जहाँ में सभी तो ख़ुशियाँ मना रहे हैं

लालच न दो, हम नाम-ए-मुहम्मद पे मरेंगे
मीलाद पे समझौता किया है न करेंगे
बर्दाश्त न करेंगे जुलूसों पे रुकावट
मीलाद-ए-मुहम्मद का मिशन जारी रखेंगे

हम अपने नबी पाक से यूँ प्यार करेंगे
हर हाल में सरकार का मीलाद करेंगे

तेरा खावाँ, मैं तेरे गीत गावाँ, या रसूलल्लाह !
तेरा मीलाद मैं क्यूँ न मनावाँ, या रसूलल्लाह !

ता’लीम पहले दूँगा मुहम्मद के जश्न की
तहज़ीब सिखाऊँगा मुहम्मद के जश्न की
विर्से मे छोड़ जाऊँगा मीलाद की लगन
मेरे भी बच्चे जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

हम अपने नबी पाक से यूँ प्यार करेंगे
हर हाल में सरकार का मीलाद करेंगे

मेरे नबी आ गए ! मरहबा या मुस्तफ़ा !
प्यारे नबी आ गए ! मरहबा या मुस्तफ़ा !
लजपाल नबी आ गए ! मरहबा या मुस्तफ़ा !
ग़म-ख़्वार नबी आ गए ! मरहबा या मुस्तफ़ा !

हम अपनी मोहब्बत का यूँ ए’लान करेंगे
हम जश्न-ए-मुहम्मद पे फ़िदा जान करेंगे
मीलाद की रैलि-ओ-जुलूसों में ले जा कर
औलाद भी सरकार पे क़ुर्बान करेंगे

हम अपने नबी पाक से यूँ प्यार करेंगे
हर हाल में सरकार का मीलाद करेंगे

क़ीमत जहाँ में अपनी, उजागर ! गिराओगे
आक़ा को छोड़ कर कभी ‘इज़्ज़त न पाओगे
मज़बूत कर लो रिश्ता नबी से, तो जियोगे
रिश्ता नबी से तोड़ोगे तो टूट जाओगे

हम अपने नबी पाक से यूँ प्यार करेंगे
हर हाल में सरकार का मीलाद करेंगे

साहिब-ए-मे’राज नबी
आसियों की लाज नबी
नबियों के सरताज नबी
कल भी थे और आज नबी
दो जहाँ के राज वाले मेरे नबी आ गए

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी
हाफ़िज़ अहसन क़ादरी

 

marhaba marhaba marhaba mustafa !
marhaba marhaba marhaba mustafa !

ham apne nabi paak se yu.n pyaar karenge
har haal me.n sarkaar ka meelaad karenge

jashn-e-wilaadat ki raunaq pe, yaaro !
marte hai.n sunni, marte rahenge
apne nabi ki, ‘azmat ka charcha
karte hai.n sunni, karte rahenge

kuchh jalne waale dekh ke kehte hai.n hamesha
sarkaar ki aamad pe lagaate ho kyu.n paisa
ye paisa to kya cheez hai, ham ghar bhi luTa de.n
koi nahi.n jahaan me.n sarkaar ke jaisa

ham apne nabi paak se yu.n pyaar karenge
har haal me.n sarkaar ka meelaad karenge

mere sarkaar aae ! mere dildaar aae !
mere sarkaar aae ! mere dildaar aae !

mere nabi aa gae ! marhaba ya mustafa !
pyaare nabi aa gae ! marhaba ya mustafa !
lajpaal nabi aa gae ! marhaba ya mustafa !
Gam-KHwaar nabi aa gae ! marhaba ya mustafa !

saahib-e-me’raaj nabi
aasiyo.n ki laaj nabi
nabiyo.n ke sartaaj nabi
kal bhi the aur aaj nabi
do jahaa.n ke raaj waale mere nabi aa gae

har KHaarji fasaadi watan se bhagaaenge
pa.Dh ke durood sab ko meelaadi banaaenge
laaenge ham huzoor ka islam taKHt par
laa-deeniyat ke saare buto.n ko giraaenge

ham apne nabi paak se yu.n pyaar karenge
har haal me.n sarkaar ka meelaad karenge

takleef hoti hai, tujhe mirche.n bhi lagti hai.n
jab baarahwi.n pe lighto.n se galiyaa.n bhi sajti hai.n
kyu.n chi.Dhta hai tu dekh ke jhando.n ki bahaare.n
taa’zeem-e-nabi ho to sabhi achchhi lagti hai.n

ham apne nabi paak se yu.n pyaar karenge
har haal me.n sarkaar ka meelaad karenge

nisaar teri chahal-pahal par
hazaaro.n ‘eide.n, rabi-ul-awwal !
siwaae iblees ke jahaa.n me.n
sabhi to KHushiyaa.n mana rahe hai.n

laalach na do, ham naam-e-muhammad pe marenge
meelaad pe samjhauta kiya hai na karenge
bardasht na karenge julooso.n pe rukaawaT
meelaad-e-muhammad ka mishan jaari rakhenge

ham apne nabi paak se yu.n pyaar karenge
har haal me.n sarkaar ka meelaad karenge

tera khaawaa.n, mai.n tere geet gaawaa.n, ya rasoolallah !
tera meelaad mai.n kyu.n na manaawaa.n, ya rasoolallah !

taa’leem pehle doonga muhammad ke jashn ki
tahzeeb sikhaaunga muhammad ke jashn ki
wirse me.n chho.D jaaunga meelaad ki lagan
mere bhi bachche jashn-e-wilaadat manaaenge

ham apne nabi paak se yu.n pyaar karenge
har haal me.n sarkaar ka meelaad karenge

mere nabi aa gae ! marhaba ya mustafa !
pyaare nabi aa gae ! marhaba ya mustafa !
lajpaal nabi aa gae ! marhaba ya mustafa !
Gam-KHwaar nabi aa gae ! marhaba ya mustafa !

ham apni mohabbat ka yu.n e’laan karenge
ham jashn-e-muhammad pe fida jaan karenge
meelaad ki railly-o-julooso.n me.n le jaa kar
aulaad bhi sarkaar pe qurbaan karenge

ham apne nabi paak se yu.n pyaar karenge
har haal me.n sarkaar ka meelaad karenge

qeemat jahaa.n me.n apni, Ujaagar ! giraaoge
aaqa ko chho.D kar kabhi ‘izzat na paaoge
mazboot kar lo rishta nabi se, to jiyoge
rishta nabi se to.Doge to Toot jaaoge

ham apne nabi paak se yu.n pyaar karenge
har haal me.n sarkaar ka meelaad karenge

saahib-e-me’raaj nabi
aasiyo.n ki laaj nabi
nabiyo.n ke sartaaj nabi
kal bhi the aur aaj nabi
do jahaa.n ke raaj waale mere nabi aa gae

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *