Ik Shab-e-Taar Hai Be-Panaah Pyaar Hai Nazm – Iz Huma Fil-Ghaar Naat Lyrics

Ik Shab-e-Taar Hai Be-Panaah Pyaar Hai Nazm – Iz Huma Fil-Ghaar Naat Lyrics

 

 

इक शब-ए-तार है
और इक ग़ार है
और इस ग़ार में
एक सच्चा है और एक सच्चाई है
इक मोहब्बत है और एक हुब-दार है
बे-पनाह प्यार है
बे-पनाह प्यार है
जिस पे शाहिद है नूरानी फ़रमान भी
रब का क़ुरआन भी
बे-पनाह प्यार है
ज़ानू-ए-यार पर
यार-ए-फ़िल-ग़ार पर
दौलत-ए-दो-जहाँ
जल्वा-पैरा हुई
फ़ैज़-फ़रमा हुई
लेकिन उस ग़ार के कोने-खुदरे में मौजूद इक साँप से
ये तक़र्रुब का मंज़र न देखा गया
शोख़ ने डस लिया
साँप के ज़हर से ज़ब्त सिद्दीक़-ए-अकबर का टूटा मगर
साँप को क्या ख़बर ?
इस की तर आँख से
उन के रुख़्सार तक
नुक़रई आब का
महरम-ए-ख़्वाब तक
जो सफ़र हो गया
मो’तबर हो गया

शायर:
नादिर सिद्दीक़ी

ना’त-ख़्वाँ:
ख़ालिद हसनैन ख़ालिद

 

ik shab-e-taar hai
aur ik Gaar hai
aur is Gaar me.n
ek sachcha hai aur ek sachchaai hai
ik mohabbat hai aur ek hub-daar hai
be-panaah pyaar hai
be-panaah pyaar hai
jis pe shaahid hai nooraani farmaan bhi
rab ka qur.aan bhi
be-panaah pyaar hai
zaanu-e-yaar par
yar-e-fil-Gaar par
daulat-e-do-jahaa.n
jalwa-paira hui
faiz-farma hui
lekin us Gaar ke kone-khudre me.n maujood ik saa.np se
ye taqarrub ka manzar na dekha gaya
shoKH ne Das liya
saa.np ke zahr se zabt siddiq-e-akbar ka TooTa magar
saa.np ko kya KHabar ?
is ki tar aankh se
un ke ruKHsaar tak
nuqrai aab ka
mahram-e-KHwaab tak
jo safar ho gaya
mo’tabar ho gaya

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *