Ishq-e-Nabi Ka Jaam Pilao Na Ghaus-e-Pak Naat Lyrics

Ishq-e-Nabi Ka Jaam Pilao Na Ghaus-e-Pak Naat Lyrics

 

 

Ishq-e-Nabi Ka Jaam Pilao Na Ghaus-e-Pak Naat Lyrics| Baghdad Maine Dekha Nahin Hai

 

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

क़दमों में अपने मुझ को सुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

मैं क्या करूँगा सुन के ज़माने की हिदायत
वज्ह-ए-सुकून है शह-ए-जीलाँ की करामत
बर्तानिया, अफ़ग़ान से क्या लेना है मुझे
मौक़ा’ मिला तो देखना पूछूँगा एक बार

कब जाऊँगा ‘इराक़ बताओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

ज़ुल्म-ओ-जफ़ा, सितम है, बलाओं का राज है
हम जिस में जी रहे हैं ये कैसा समाज है ?
ज़हरीली हो गई है फ़ज़ा इस तरह यहाँ
ग़ौस-उल-वरा से मेरी ये फ़रियाद आज है

दो गज़ ज़मीन दे के बसाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

सारे बुरों में मैं हूँ बुरा तो बुरा सही
लेकिन तमाम अच्छों में अच्छा मिला तू ही
दादी है तेरी फ़ातिमा, दादा तेरे ‘अली
देखेंगी तेरा रौज़ा निगाहें ये कब मेरी

हसरत की आग मेरी बुझाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

राहत-गुज़ीं जहाँ पे ख़ुदा हबीब है
देखा है जिस ने शहर-ए-नबी, ख़ुशनसीब है
अस्लाफ़ की किताब में तहरीर यही है
बग़दाद से हुदूद-ए-मदीना क़रीब है

मुझ को वहीं से तयबा दिखाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

कुछ बद-तमीज़ बकते हैं वलियों की शान में
बाज़ार में, मकान में, अपनी दुकान में
पाबंदियाँ लगाइए उस की उड़ान में
लग जाए ताला आज ही उस की ज़बान में

तीर-ए-नज़र वहीं से चलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

मैं ‘अंदलीब-ए-बाग़-ए-रिसालत बना फिरूँ
हर दिलरुबा के दिल का मैं दिलबर बना फिरूँ
बरसों से मेरे दिल की तमन्ना है बस यही
इक जलसा मैं ‘इराक़ में जा कर कभी पढ़ूँ

शोहरत में चार चाँद लगाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

इस दिल से दूर आज ही रंज-ओ-अलम करो
मौला हसन-हुसैन के सदक़े करम करो
दुनिया पड़ी है पीछे तुम्हारे ग़ुलाम के
बढ़ता ही जा रहा है सितम, आप कम करो

तुम ज़ालिमों का ज़ोर मिटाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बुलाओ ना, ग़ौस-ए-पाक !
बग़दाद मैं ने देखा नहीं है

ना’त-ख़्वाँ:
दिलबर शाही

 

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

qadmo.n me.n apne mujh ko sulaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

mai.n kya karunga sun ke zamaane ki hidaayat
waj.h-e-sukoon hai shah-e-jeelaa.n ki karaamat
bartaaniya, afGaan se kya lena hai mujhe
mauqa’ mila to dekhna poochhoonga ek baar

kab jaaunga ‘iraq bataao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

zulm-o-jafa, sitam hai, balaao.n ka raaj hai
ham jis me.n jee rahe hai.n ye kaisa samaaj hai ?
zahrili ho gai hai faza is tarah yaha.n
Gaus-ul-wara se meri ye fariyaad aaj hai

do gaz zameen de ke basaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

saare buro.n me.n mai.n hu.n bura to bura sahi
lekin tamaam achchho.n me.n achchha mila tu hi
daadi hai teri faatima, daada tere ‘ali
dekhengi tera rauza nigaahe.n ye kab meri

hasrat ki aag meri bujhaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

raahat-guzi.n jaha.n pe KHuda ka habeeb hai
dekha hai jis ne shahar-e-nabi, KHush-naseeb hai
aslaaf ki kitaab me.n tahreer yahi hai
baGdaad se hudood-e-madina qareeb hai

mujh ko wahi.n se tayba dikhaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

kuchh bad-tameez bakte hai.n waliyo.n ki shaan me.n
baazaar me.n, makaan me.n, apni dukaan me.n
paabandiyaa.n lagaaiye us ki u.Daan me.n
lag jaae taala aaj hi us ki zabaan me.n

teer-e-nazar wahi.n se chalaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

mai.n ‘andleeb-e-baaG-e-risaalat bana phiru.n
har dilruba ke dil ka mai.n dilbar bana phiru.n
barso.n se mere dil ki tamanna hai bas yahi
ik jalsa mai.n ‘iraq me.n jaa kar kabhi pa.Dhu.n

shohrat me.n chaar chaand lagaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

is dil se door aaj hi ranj-o-alam karo
maula hasan-husain ke sadqe karam karo
duniya pa.Di hai peechhe tumhaare Gulaam ke
ba.Dhta hi jaa raha hai sitam, aap kam karo

tum zaalimo.n ka zor miTaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaao na, Gaus-e-paak !
bulaao na, Gaus-e-paak !
baGdaad mai.n ne dekha nahi.n hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *