Ishq Hai Ham Par Jin Ka Laazim Moosa Kaazim Moosa Kaazim Naat Lyrics

Ishq Hai Ham Par Jin Ka Laazim Moosa Kaazim Moosa Kaazim Naat Lyrics

 

या इमाम-ए-मूसा-काज़िम !
या इमाम-ए-मूसा-काज़िम !

‘इश्क़ है हम पर जिन का लाज़िम
मूसा काज़िम, मूसा काज़िम
हम हैं जिन के दर के मुलाज़िम
मूसा काज़िम, मूसा काज़िम

‘इश्क़ है हम पर जिन का लाज़िम
मूसा काज़िम, मूसा काज़िम

आल-ए-नबी से बुग़्ज़-ओ-‘अदावत
करने वालों पर हो ला’नत
ग़र्क़ हुए हैं तेरे शातिम
मूसा काज़िम, मूसा काज़िम

‘इश्क़ है हम पर जिन का लाज़िम
मूसा काज़िम, मूसा काज़िम

जूद-ओ-सख़ा है शान तुम्हारी
‘अफ़्व-ओ-करम है काम तुम्हारा
हम भी रहेंगे साइल दाइम
मूसा काज़िम, मूसा काज़िम

‘इश्क़ है हम पर जिन का लाज़िम
मूसा काज़िम, मूसा काज़िम

जिस का कोई काम रुका हो
मुश्किल कैसी सर पे कड़ी हो
आओ, उजागर ! बन कर ख़ादिम
मूसा काज़िम, मूसा काज़िम

‘इश्क़ है हम पर जिन का लाज़िम
मूसा काज़िम, मूसा काज़िम

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी

 

ya imaam-e-moosa-kaazim !
ya imaam-e-moosa-kaazim !

‘ishq hai ham par jin ka laazim
moosa kaazim, moosa kaazim
ham hai.n jin ke dar ke mulaazim
moosa kaazim, moosa kaazim

‘ishq hai ham par jin ka laazim
moosa kaazim, moosa kaazim

aal-e-nabi se buGz-o-‘adaawat
karne waalo.n par ho laa’nat
Garq hue hai.n tere shaatim
moosa kaazim, moosa kaazim

‘ishq hai ham par jin ka laazim
moosa kaazim, moosa kaazim

jood-o-saKHa hai shaan tumhaari
‘afw-o-karam hai kaam tumhaara
ham bhi rahenge saail daaim
moosa kaazim, moosa kaazim

‘ishq hai ham par jin ka laazim
moosa kaazim, moosa kaazim

jis ka koi kaam ruka ho
mushkil kaisi sar pe ka.Di ho
aao, Ujaagar ! ban kar KHaadim
moosa kaazim, moosa kaazim

‘ishq hai ham par jin ka laazim
moosa kaazim, moosa kaazim

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *