Jab Se Mujh Ko Nisbat-e-Makhdoom-e-Simnaani Mili Naat Lyrics

Jab Se Mujh Ko Nisbat-e-Makhdoom-e-Simnaani Mili Naat Lyrics

 

जब से मुझ को निस्बत-ए-मख़्दूम-ए-सिमनानी मिली
मुश्किलें जितनी भी आईं, उन में आसानी मिली

तख़्त-ए-सिमनानी की रानाई को ठोकर मार कर
दोनों ‘आलम की मेरे अशरफ़ को सुल्तानी मिली

अशरफ़-ए-सैफ़-ए-ज़बाँ की देखिए रूहानियत
बे-ज़बाँ मूरत को भी तहरीक-ए-जिस्मानी मिली

या ख़ुदा ! ये ख़ुल्द है या है किछौछे की ज़मीं
मुझ को हर सूरत यहाँ की जानी पहचानी मिली

नाम-ए-अशरफ़ ले के कश्ती में हुआ था मैं सवार
सर-निगूँ हो कर मुझे दरिया की तुग़्यानी मिली

अल्लाह अल्लाह ! ये ‘अता-ए-ग़ौस-ओ-ख़्वाजा है, हमें
बारगाह-ए-हज़रत-ए-महबूब-ए-यज़्दानी मिली

ढूँडने वालो ने ढूँडी जा-ब-जा, फ़ाज़िल ! मगर
आस्तान-ए-अशरफ़ी पर मेरी पेशानी मिली

शायर:
फ़ाज़िल मैसूरी

नात-ख़्वाँ:
उस्मान ग़नी अशरफ़ी

 

jab se mujh ko nisbat-e-maKHdoom-e-simnaani mili
mushkile.n jitni bhi aaee.n, un me.n aasaani mili

taKHt-e-simnaani ki raanaai ko Thokar maar kar
dono.n ‘aalam ki mere ashraf ko sultaani mili

ashraf-e-saif-e-zabaa.n ki dekhiye roohaaniyat
be-zabaa.n moorat ko bhi tahreek-e-jismaani mili

ya KHuda ! ye KHuld hai ya hai kichhauchhe ki zamee.n
mujh ko har soorat yahaa.n ki jaani pahchaani mili

naam-e-ashraf le ke kashti me.n huaa tha mai.n sawaar
sar-nigoo.n ho kar mujhe dariya ki tuGyaani mili

allah allah ! ye ‘ata-e-Gaus-o-KHwaja hai, hame.n
baargaah-e-hazrat-e-mahboob-e-yazdaani mili

Dhoondne waalo ne Dhoondi jaa-ba-jaa, Faazil ! magar
aastaan-e-ashrafi par meri peshaani mili

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *