Jagah Jee Lagaane Ki Duniya Nahin Hai Naat Lyrics

Jagah Jee Lagaane Ki Duniya Nahin Hai Naat Lyrics

 

 

तू ख़ुशी के फूल लेगा कब तलक ?
तू यहाँ ज़िंदा रहेगा कब तलक ?

एक दिन मरना है, आख़िर मौत है
कर ले जो करना है, आख़िर मौत है

जगह जी लगाने की दुनिया नहीं है
ये ‘इबरतकी जा है, तमाशा नहीं है

जहाँ में हैं ‘इबरत के हर-सू नमूने
मगर तुझ को अँधा किया रंग-ओ-बू ने
कभी ग़ौर से ये भी देखा है तू ने
जो आबाद थे वो महल अब हैं सूने

जगह जी लगाने की दुनिया नहीं है
ये ‘इबरत की जा है, तमाशा नहीं है

मिले ख़ाक में अहल-ए-शाँ कैसे कैसे !
मकीं हो गए ला-मकाँ कैसे कैसे !
हुए नामवर बे-निशाँ कैसे कैसे !
ज़मीं खा गई नौजवाँ कैसे कैसे !

यही तुझ को धुन है, रहूँ सब से बाला
हो ज़ीनत निराली, हो फ़ैशन निराला
जिया करता है क्या यूँही मरने वाला ?
तुझे हुस्न-ए-ज़ाहिर ने धोके में डाला

जगह जी लगाने की दुनिया नहीं है
ये ‘इबरत की जा है, तमाशा नहीं है

क़ब्र में मय्यत उतरनी है ज़रूर
जैसी करनी वैसी भरनी है ज़रूर

दबदबा दुनिया में ही रह जाएगा
हुस्न तेरा ख़ाक में मिल जाएगा

बे-नमाज़ी तेरी शामत आएगी
क़ब्र की दीवार बस मिल जाएगी

तोड़ देगी क़ब्र तेरी पस्लियाँ
दोनों हाथों की मिलें जों उँगलियाँ

लंदन-ओ-पैरिस के सपने छोड़ दे
बस मदीने से ही रिश्ते जोड़ दे

बे-वफ़ा दुनिया पे मत कर ए’तिबार
तू अचानक मौत का होगा शिकार

कर ले तौबा, रब की रहमत है बड़ी
क़ब्र में वर्ना सज़ा होगी कड़ी

तुझे पहले बचपन ने बरसों खिलाया
जवानी ने फिर तुझ को मजनूँ बनाया
बुढ़ापे ने फिर आ के क्या क्या सताया
अजल तेरा कर देगी बिल्कुल सफ़ाया

अजल ने न छोड़ा, न किसरा, न दारा
इसी से सिकंदर सा फ़ातेह भी हारा
हर इक ले के क्या क्या न हसरत सिधारा
पड़ा रह गया सब यूँही ठाठ सारा

जगह जी लगाने की दुनिया नहीं है
ये ‘इबरत की जा है, तमाशा नहीं है

शायर:
ख़्वाजा अज़ीज़ुल हसन

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी

 

tu KHushi ke phool lega kab talak ?
tu yahaa.n zinda rahega kab talak ?

ek din marna hai, aaKHir maut hai
kar le jo karna hai, aaKHir maut hai

jagah jee lagaane ki duniya nahi.n hai
ye ‘ibrat ki jaa hai, tamaasha nahi.n hai

jahaa.n me.n hai.n ‘ibrat ke har-soo namoone
magar tujh ko andha kiya rang-o-boo ne
kabhi Gaur se ye bhi dekha hai tu ne
jo aabaad the wo mahal ab hai.n soone

jagah jee lagaane ki duniya nahi.n hai
ye ‘ibrat ki jaa hai, tamaasha nahi.n hai

mile KHaak me.n ahl-e-shaa.n kaise kaise !
makee.n ho gae la-makaa.n kaise kaise !
hue naamwar be-nishaa.n kaise kaise !
zamee.n kha gai naujawaa.n kaise kaise !

yahi tujh ko dhun hai, rahu.n sab se baala
ho jeenat niraali, ho faishan niraala
jiya karta hai kya yu.nhi marne waala ?
tujhe husn-e-zaahir ne dhoke me.n Daala

jagah jee lagaane ki duniya nahi.n hai
ye ‘ibrat ki jaa hai, tamaasha nahi.n hai

qabr me.n mayyat utarni hai zaroor
jaisi karni waisi bharni hai zaroor

dabdaba duniya me.n hi rah jaaega
husn tera KHaak me.n mil jaaega

be-namaazi teri shaamat aaegi
qabr ki deewaar bas mil jaaegi

to.D degi qabr teri pasliyaa.n
dono.n haatho.n ki mile.n jo.n ungliyaa.n

landan-o-pairis ke sapne chho.D de
bas madine se hi rishte jo.D de

be-wafa duniya pe mat kar e’tibaar
tu achaanak maut ka hoga shikaar

kar le tauba rab ki rahmat hai ba.Di
qabr me.n warna saza hogi ka.Di

tujhe pahle bachpan ne barso.n khilaya
jawaani ne phir tujh ko majnoo.n banaaya
bu.Dhape ne phir aa ke kya kya sataaya
ajal tera kar degi bilkul safaaya

ajal ne na chho.Da, na kisra, na daara
isi se sikandar sa faateh bhi haara
har ik le ke kya kya na hasrat sidhaara
pa.Da rah gaya sab yunhi ThaaTh saara

jagah jee lagaane ki duniya nahi.n hai
ye ‘ibrat ki jaa hai, tamaasha nahi.n hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *