Jahaan Pe Mere Payambar Ka Tazkira Hoga Naat Lyrics

Jahaan Pe Mere Payambar Ka Tazkira Hoga Naat Lyrics

 

 

 

Jahaan Pe Mere Payambar Ka Tazkira Hoga | Husain Tere Hi Qabze Mein Karbala Hoga

 

जहाँ पे मेरे पयंबर का तज़्किरा होगा
ख़ुदा के फ़ज़्ल का पहरा वहाँ लगा होगा
यज़ीदी पहरा लगाएँ तो उस से क्या होगा
हुसैन ! तेरे ही क़ब्ज़े में कर्बला होगा

क़सम ख़ुदा की ! वो मंज़र बदल गया होता
यज़ीदियों का कलेजा दहल गया होता
हुसैन हाथ दु’आ को अगर उठा देते
तो कर्बला में भी ज़मज़म निकल गया होता

नज़र से ख़ून, नज़ारों से ख़ून टपकेगा
इशारा होता, इशारों से ख़ून टपकेगा
अगर हुसैन के सज्दे को भूल जाओगे
तो मस्जिदों के मीनारों से ख़ून टपकेगा

लहू में रंग है बाक़ी तो कर्बला चलिए
अगर है ख़ून में गर्मी तो कर्बला चलिए
नबी के नाम का सदक़ा लुटा रहे हैं हुसैन
किसी को चाहिए पानी तो कर्बला चलिए

वहाँ की मौत भली है, यहाँ के जीने से
जहाँ निकलता है ज़मज़म ज़मीं के सीने से
मैं उस हुसैन को क़ुरआँ नहीं तो क्या समझूँ
रसूल-ए-पाक लगाते हैं जिन को सीने से

ना’त-ख़्वाँ:
शमीम फ़ैज़ी
सैफ़ रज़ा कानपुरी

 

jahaa.n pe mere payambar ka tazkira hoga
KHuda ke fazl ka pehra wahaa.n laga hoga
yazeedi pehra lagaae.n to us se kya hoga
husain ! tere hi qabze me.n karbala hoga

qasam KHuda ki ! wo manzar badal gaya hota
yazeediyo.n ka kaleja dahal gaya hoga
husain haath du’aa ko agar uTha dete
to karbala me.n bhi zamzam nikal gaya hota

nazar se KHoon, nazaaro.n se KHoon Tapkega
ishaara hota, ishaaro.n se KHoon Tapkega
agar husain ke sajde ko bhool jaaoge
to masjido.n ke minaaro.n se KHoon Tapkega

lahoo me.n rang hai baaqi to karbala chaliye
agar hai KHoon me.n garmi to karbala chaliye
nabi ke naam ka sadqa luTa rahe hai.n husain
kisi ko chaahiye paani to karbala chaliye

wahaa.n ki maut bhali hai, yahaa.n ke jeene se
jahaa.n nikalta hai zamzam zamee.n ke seene se
mai.n us husain ko qur.aa.n nahi.n to kya samjhu.n
rasool-e-paak lagaate hai.n jin ko seene se

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *