Jalwa Hai Noor Hai Ki Sarapa Raza Ka Hai Naat Lyrics

Jalwa Hai Noor Hai Ki Sarapa Raza Ka Hai Naat Lyrics

 

 

 

Jalwa Hai Noor Hai Ki Sarapa Raza Ka Hai | Wadi Raza Ki Koh-e-Himala Raza Ka Hai

 

जल्वा है, नूर है कि सरापा रज़ा का है
तस्वीर-ए-सुन्नियत है कि चेहरा रज़ा का है

वादी रज़ा की, कोह-ए-हिमाला रज़ा का है
जिस सम्त देखिये वो ‘इलाक़ा रज़ा का है

जो उस ने लिख दिया है, सनद है वो दीन में
अहल-ए-क़लम की आबरू नुक़्ता रज़ा का है

किस की मजाल है जो नज़र भी मिला सके
दरबार-ए-मुस्तफ़ा में ठिकाना रज़ा का है

अगलों ने तो लिखा है बहुत ‘इल्म-ए-दीन पर
जो कुछ है इस सदी में वो तन्हा रज़ा का है

दरिया फ़साहतों के रवाँ शा’इरी में हैं
ये सहल-ए-मुमतना’ है कि लहज़ा रज़ा का है

दस्तार आ रही है ज़मीं पर जो सर उठे
कितना बुलंद आज फरेरा रज़ा का है

छूता है आसमान को मीनार ‘अज़्म का
या’नी अटल पहाड़ इरादा रज़ा का है

अल्फ़ाज़ बह रहे हैं दलीलों की धार पर
चलता हुवा क़लम है कि धारा रज़ा का है

इस दौर-ए-पुर-फ़ितन में, नज़र ! ख़ुश-‘अक़ीदगी
सरकार का करम है, वसीला रज़ा का है

शायर:
प्रोफ़ेसर जमील नज़र

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी

 

jalwa hai, noor hai ki saraapa raza ka hai
tasweer-e-sunniyat hai ki chehra raza ka hai

waadi raza ki, koh-e-himaala raza ka hai
jis samt dekhiye wo ‘ilaaqa raza ka hai

jo us ne likh diya hai, sanad hai wo deen me.n
ahl-e-qalam ki aabroo nuqta raza ka hai

kis ki majaal hai jo nazar bhi mila sake
darbaar-e-mustafa me.n Thikaana raza ka hai

aglo.n ne to likha hai bahut ‘ilm-e-deen par
jo kuchh hai is sadi me.n wo tanha raza ka hai

dariya fasaahato.n ke rawaa.n shaa’iri me.n hai.n
ye sahl-e-mumtana’ hai ki lehza raza ka hai

dastaar aa rahi hai zamee.n par jo sar uThe
kitna buland aaj pharera raza ka hai

chhoota hai aasmaan ko minaar ‘azm ka
yaa’ni aTal pahaa.D iraada raza ka hai

alfaaz beh rahe hai.n daleelo.n ki dhaar par
chalta huwa qalam hai ki dhaara raza ka hai

is daur-e-pur-fitan me.n, Nazar ! KHush-‘aqeedgi
sarkaar ka karam hai, waseela raza ka hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *