Jo Ata-e-Mustafa Hai Aur Raza-e-Kibriya Wo Imaam Ahmad Raza Hai Wo Imaam Ahmad Raza Naat Lyrics

Jo Ata-e-Mustafa Hai Aur Raza-e-Kibriya Wo Imaam Ahmad Raza Hai Wo Imaam Ahmad Raza Naat Lyrics

 

 

अहमद रज़ा ! अहमद रज़ा ! अहमद रज़ा ! अहमद रज़ा !
अहमद रज़ा ! अहमद रज़ा ! अहमद रज़ा ! अहमद रज़ा !

जो क़ुद्सी हश्र में पूछेंगे मुझ से किस का पैरो था
कहूँगा कर के सर ऊँचा इमाम अहमद रज़ा खाँ का

जो ‘अता-ए-मुस्तफ़ा है और रज़ा-ए-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा
दीन का जो पासबाँ है और हमारा रहनुमा
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

सुन्नियों का पेशवा ! मेरा रज़ा, मेरा रज़ा !
‘इल्म-ओ-फ़न का बादशा ! मेरा रज़ा, मेरा रज़ा !
है मदीने की ज़िया ! मेरा रज़ा, मेरा रज़ा !
ग़ौस-ए-‘आज़म की ‘अता ! मेरा रज़ा, मेरा रज़ा !

जो ‘अता-ए-मुस्तफ़ा है और रज़ा-ए-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जिस का सीना है अमीं मौला ‘अली के ‘इल्म का
अहल-ए-सुन्नत को मिली जिस से फ़तावा-रज़विया
जिस का हम पर बिल-यक़ीं एहसान है बे-इंतिहा
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जो ‘अता-ए-मुस्तफ़ा है और रज़ा-ए-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जो ज़माने का यक़ीनन आ’ला हज़रत बन गया
फ़िक़्ह में जो बू-हनीफ़ा भी था अपने वक़्त का
जो है सरकार-ए-दो-‘आलम का यक़ीनन मो’जिज़ा
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जो ‘अता-ए-मुस्तफ़ा है और रज़ा-ए-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

मश’अल-ए-राह-ए-तरीक़त जिस की हर तहरीर है
दुश्मनों के वास्ते जिस का क़लम शमशीर है
जिस की हैबत से अभी तक नज्द में है ज़लज़ला
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जो ‘अता-ए-मुस्तफ़ा है और रज़ा-ए-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

अहल-ए-‘इल्म-ओ-फ़िक़्ह में जिस की अलग पहचान है
जिस की ‘इल्मी शान-ओ-शौक़त पर जहाँ क़ुर्बान है
जिस के फ़न की चार-सू फ़ैली ज़माने में ज़िया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जो ‘अता-ए-मुस्तफ़ा है और रज़ा-ए-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जिस की हैं सारी अदाएँ सुन्नत-ए-ख़ैरुल-बशर
रात-दिन ज़िक्र-ए-नबी में ही किए जिस ने बसर
हो गया फ़ज़्ल-ए-ख़ुदा से जो हबीब-ए-मुस्तफ़ा
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जो ‘अता-ए-मुस्तफ़ा है और रज़ा-ए-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

‘इल्म-ओ-फ़ैज़ान-ए-रज़ा की जो निरी तस्वीर है
ख़ुद वो सर से पा तलक तनवीर ही तनवीर है
गुलशन-ए-अहमद-रज़ा का फूल वो अख़्तर रज़ा
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जो ‘अता-ए-मुस्तफ़ा है और रज़ा-ए-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

पैकर-ए-हक़-ओ-सदाक़त जिस की है ज़ात-ए-मुबीं
क़ल्ब पर जिस के हुआ ता’मीर ‘इश्क़-ए-शाह-ए-दीं
है दिल-ओ-जाँ से ये तफ़्सीर-ए-रज़ा जिस पर फ़िदा
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

जो ‘अता-ए-मुस्तफ़ा है और रज़ा-ए-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है, वो इमाम अहमद रज़ा

सुन्नियों का पेशवा ! मेरा रज़ा, मेरा रज़ा !
‘इल्म-ओ-फ़न का बादशा ! मेरा रज़ा, मेरा रज़ा !
है मदीने की ज़िया ! मेरा रज़ा, मेरा रज़ा !
ग़ौस-ए-‘आज़म की ‘अता ! मेरा रज़ा, मेरा रज़ा !

नात-ख़्वाँ:
डॉ. निसार अहमद मार्फ़ानी

 

ahmad raza ! ahmad raza ! ahmad raza ! ahmad raza !
ahmad raza ! ahmad raza ! ahmad raza ! ahmad raza !

jo qudsi hashr me.n poochhenge mujh se kis ka pairo tha
kahunga kar ke sar uncha imaam ahmad raza khaa.n ka

jo ‘ata-e-mustafa hai aur raza-e-kibriya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza
deen ka jo paasbaa.n hai aur hamaara rahnuma
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

sunniyo.n ka peshwa ! mera raza, mera raza !
‘ilm-o-fan ka baadsha ! mera raza, mera raza !
hai madine ki ziya ! mera raza, mera raza !
Gaus-e-‘aazam ki ‘ata ! mera raza, mera raza !

jo ‘ata-e-mustafa hai aur raza-e-kibriya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jis ka seena hai amee.n maula ‘ali ke ‘ilm ka
ahl-e-sunnat ko mili jis se fataawa-razaviya
jis ka ham par bil-yaqee.n ehsaan hai be-intiha
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jo ‘ata-e-mustafa hai aur raza-e-kibriya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jo zamaane ka yaqeenan aa’la hazrat ban gaya
fiqh me.n jo boo-hanifa bhi tha apne waqt ka
jo hai sarkaar-e-do-‘aalam ka yaqeenan mo’jiza
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jo ‘ata-e-mustafa hai aur raza-e-kibriya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

mash’al-e-raah-e-tareeqat jis ki har tahreer hai
dushmano.n ke waaste jis ka qalam shamsheer hai
jis ki haibat se abhi tak najd me.n hai zalzala
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jo ‘ata-e-mustafa hai aur raza-e-kibriya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

ahl-e-‘ilm-o-fiqh me.n jis ki alag pahchaan hai
jis ki ‘ilmi shaan-o-shauqat par jahaa.n qurbaan hai
jis ke fan ki chaar-soo faili zamaane me.n ziya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jo ‘ata-e-mustafa hai aur raza-e-kibriya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jis ki hai.n saari adaae.n sunnat-e-KHairul-bashar
raat-din zikr-e-nabi me.n hi kiye jis ne basar
ho gaya fazl-e-KHuda se jo habeeb-e-mustafa
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jo ‘ata-e-mustafa hai aur raza-e-kibriya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

‘ilm-o-faizaan-e-raza ki jo niri tasweer hai
KHud wo sar se paa talak tanweer hi tanweer hai
gulshan-e-ahmad-raza ka phool wo aKHtar raza
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jo ‘ata-e-mustafa hai aur raza-e-kibriya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

paikar-e-haq-o-sadaaqat jis ki hai zaat-e-mubee.n
qalb par jis ke huaa taa’meer ‘ishq-e-shaah-e-dee.n
hai dil-o-jaa.n se ye Tafseer-e-Raza jis par fida
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

jo ‘ata-e-mustafa hai aur raza-e-kibriya
wo imaam ahmad raza hai, wo imaam ahmad raza

sunniyo.n ka peshwa ! mera raza, mera raza !
‘ilm-o-fan ka baadsha ! mera raza, mera raza !
hai madine ki ziya ! mera raza, mera raza !
Gaus-e-‘aazam ki ‘ata ! mera raza, mera raza !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *